रामगंज व परकोटा परिक्षेत्र में एक ही दिन में लिए 576 सैम्पल

Edit-Rashmi Sharma
जयपुर, 8 अप्रेल 2020 कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जयपुर जिले के नोडल अधिकारी ऊर्जा विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री अजिताभ शर्मा ने बताया कि रामगंज क्षेत्र में पहली बार मौके पर जाकर सैम्पलिंग का कार्य पूरी क्षमता से प्रारम्भ कर दिया गया है। इसके लिए फिलहाल पांच मोबाइल वैन एवं दो स्टेटिक सैम्पलिंग सेंटर्स बनाए गए हैं। इन सेंटर्स पर करीब 28 कर्मी जिनमें चिकित्सक, नर्स एवं लेब टेक्निीशियन शामिल है, सैम्पलिंग कार्य कर रहे हैं। बुधवार को रामंगज सहित सभी सेंटर्स पर कुल मिलाकर 576 सैम्पल लिए गए।
श्री शर्मा ने बताया कि अब सैम्पल देने के लिए लोग स्वयं भी आगे आने लगे हैं और क्षेत्र में जनप्रतिनिधियो के समन्वय एवं जिला प्रशासन के प्रयासों से पूर्व की स्थिति में सुधार आया है। सैम्पलिंग का कार्य घर के आस-पास होने से लोगों को सहूलियत मिलने के साथ ही विश्वास भी बढा है।  उन्होंने बताया कि रामगंज क्षेत्र में मौके पर जाकर सैम्पलिंग कार्य की शुरूआत मंगलवार दोपहर बाद से ही कर दी गई थी और 38 सैम्पल लिए गए थे। बुधवार को इसे अभियान की तरह पूरी क्षमता के साथ संचालित किया गया। जिससे रामगंज में 237 सैम्पल, अमृतपुरी में 30, भट्टा बस्ती में 30, लक्ष्मीरायणपुरी में 20, एमडी रोड क्षेत्र में 30, मोहम्मदी हॉस्पिटल में 16, नीलगरों का मोहल्ला में 30, आईसीएम में 32 एवं मोती कटला में कुल 160 एवं कुल मिलाकर 576 सैम्पल्स लिए गए। उन्होंने बताया कि अगले कुछ ही दिन में 2000 से अधिक सैंपल विभिन्न क्लस्टर्स में लिए जाने का लक्ष्य रखा गया है ताकि संक्रमण के फैलाव की असल जानकारी प्राप्त कर उचित कदम उठाए जा सकें।
श्री शर्मा ने बताया कि पूर्व में सैम्पल लेने के लिए व्यक्ति को एसएमएस अस्पताल जाना पड़ रहा था जिससे अधिक समय में कम परिणाम मिल पाते थे। अब रणनीति में बदलाव से कार्य में तेजी आई है। सैम्पलिंग के लिए स्थापित सात सेंटर्स में से अमृतपुरी, भट्टाबस्ती, लक्ष्मी नारायणपुरा, एमडी रोड, मोहम्मदिया पर पांच मोबाइल टीमें लगाई गईं थीं। रामगंज और मोती कटला में दो स्टेटिक टीमें लगाई गई हैंं। श्री शर्मा ने बताया कि सैम्पलिंग के साथ ही घर-घर स्क्रीनिंग के लिए 250 से अधिक टीमें परकोटा क्षेत्र में लगी हुई हैं। उन्होंने मंगलवार को इन टीमाें की काउन्सलिंग के चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए थे ताकि स्क्रीनिंग डेटा की गुणवत्ता बनी रहे।
गुरूवार से क्लस्टर बेस सैम्पलिंग भी होगी शुरू
श्री शर्मा ने बताया कि गुरूवार से क्षेत्र को तीस छोटे हिस्सों में बांटकर क्लस्टर आधारित सैम्पलिंग प्रारभ की जाएगी। वहीं लक्षणों के आधार पर भी सैम्पलिंग करवा सकेंगे।