पानी की मोटर चुराने वाले तीन चोर गिरफ्तार निशादेही पर मिली 10 पानी की मोटरें

जयपुर 02 मई 2019 सोड़ाला थाना पुलिस ने पानी की मोटर चुराने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ा है। जिसमें एक बालअपचारी बताया जा रहा है। पुलिस ने बताया कि आरोपियों की निशानदेही के आधार पर 10 पानी की मोटरें बरामद की गई है। पुलिस ने बताया कि आरोपियो ं ने रामनिवास बाग, राजस्थानन विश्वरविद्यालय, ट्रांसपोर्ट नगर बापू बाजार व अन्य स्थानों  से एकाजल युनिट से मोटर  चुराना स्वीकार किया है।
पुलिस उपायुक्त दक्षिण  योगेश दाधीच  ने बताया किमनोहर लाल सैनी (45) एमपी हाल जयसिंहपुरा ब्रह्मपुरी , सद्दाम (23) निवासी आमेर रोड को  गिरफ्तार किया गया है और वहीं एक  बालअपचारी को  निरूद् किया गया। आरोपी मनोहर सैनी एकाजल युनिट में काम करने वाला कर्मचारी  पुलिस ने बताया कि एकाजल युनिट में काम करने वाला कर्मचारी मनोहर सैनी ही युनिट से मोटर चोरी की वारदात में लिप्त होने की जानकरी मिली । जिसके बारे मे  सूचना एकत्रित कर हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो अपने साथी सद्दाम एवं एक विधी संघर्षरत बालक के साथ मिलकर करना स्वीकार किया । वारदात का तरीका आरोपी व किशोर द्वारा पूछताछ सामने आया कि मनोहर सैनी युनिट के देखभाल करवाने का काम करता है । जिसने सद्दाम व एक विधि से संघर्षरत बालक को अपने साथ मिलाकर प्लान बनाया कि युनिट के प्लांट जयपुर में विभिन्न जगहो पर लगे हुये है अगर उनमें से पानी की मोटरें चोरी हो जाती है तो किसी को पता भी नही चलेगा और एकाजल युनिट द्वारा इस प्रकार का बडा प्लांट लगवाकर आमजन को निशुल्क शुद्व पेयजल उपलब्ध करवाने का काम किया जा रहा है तो वह इस और ज्यादा ध्यान नही देगा और दूसरी मोटर लगाकर युनिट चालू करवा देगा और हम पर किसी को शक भी नही जाएगा । तीनों ने एकराय होकर सुनियोजित तरीके से वारदात को अंजाम दिया और उसको बैचने के लिए मनोहर सैनी के घर रखवा दिया व ग्राहक की तलाश करने लगे। पीड़ित  पारस बछावत ने थाने में मामला दर्ज करवाया था कि श्यामनगर सब्जी मण्डी के पास एकाजल जिसके द्वारा निशुल्क पेयजल आमजन को उपलब्ध करवाने के लिए  3-4 माह पूर्व स्थापित किया गया था। दिनांक 19 अप्रेल को यूनिट का पानी बन्द होने पर दूरभाष द्वारा किसी ने सूचना दी तो स्टाफ द्वारा जांच करने पर यूनिट में पानी की मोटर नही मिली। युनिट से पाईप तोडकर मोटर चोरी हो गई । अंतिम बार युनिट का ही एक कर्मचारी सफाई के लिए गया था। जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर संदिग्ध लोगों पर निगरानी देखी।