public-holiday-should-be-declared-on-the-birth-and-initiation-welfare-festival-of-lord-rishabhdev-the-promoter-of-jainism
public-holiday-should-be-declared-on-the-birth-and-initiation-welfare-festival-of-lord-rishabhdev-the-promoter-of-jainism

जैन धर्म के प्रवर्तक ऋषभदेव भगवान के जन्म एवं दीक्षा कल्याणक महोत्सव पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाए

Editor-Dinesh Bhardwaj
जयपुर 07 अप्रैल 2021  – राजस्थान समग्र जैन युवा परिषद् के  एक प्रतिनिधि मण्डल  ने परम संरक्षक अशोक जी बांठिया और अध्यक्ष जिनेन्द्र जैन के नेतृत्व में प्रथम तीर्थंकर देवाधिदेव ऋषभदेव भगवान के जन्म एवं दीक्षा कल्याणक महोत्सव पर सार्वजनिक अवकाश घोषित करवाये जाने के लिए जयपुर के जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट श्रीयुत अन्तर सिंह नेहरा को भारत गणराज्य के महामहिम राष्ट्रपति महोदय रामनाथ कोविन्द और माननीय प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के नाम ज्ञापन सौंपा l
 इस अवसर पर परिषद् के परम संरक्षक अशोक बांठिया ने बताया दगत्पूज्य युगसृष्टा युगादि जिन भगवान ऋषभदेव का जन्म आज से एक कोडीकोडी सागर वर्ष पूर्व तीसरे काल के अंत मे चौथे काल के प्रारंभ के पूर्व (3मास 8पक्ष) मे चैत्र कृष्ण नवमी को हुआ था l कितने वर्ष पूर्व हुआ था इसे संख्या में नही बांधा जा सकता l संक्षिप्त में यह कह सकते हैं कि असंख्यात वर्ष पूर्व हुआ था l इनके पुत्र चक्रवर्ती सम्राट भरत के नाम पर हमारे देश का नाम भारतवर्ष पडा़ हैं l
वयोवृद्ध समाजसेवी राधेश्याम जैन ने बताया कि भगवान ऋषभदेव जैन धर्म के प्रथम श्रवण, पहले राजा, असी (सैनिक कार्य), मसीह(लेखन कार्य) ,कृषि, ज्योतिष, व्यापार, कला एवं शिल्प (कारीगर) के प्रतिपादक थे l उन्होंने दुनिया को सभी प्रकार के कार्यों में मार्गदर्शन प्रदान किया l इन्हें ऋषभनाथ, आदिबह्मा,बृषभदेव ,पुरूदेव, आदिनाथ के नाम से भी जाना जाता हैं l
राजस्थान समग्र जैन युवा परिषद् के अध्यक्ष जिनेन्द्र जैन ने बताया की जैन धर्म के प्रवर्तक आदिनाथ भगवान के जन्म एवं तप कल्याणक महोत्सव पर अल्पसंख्यक वर्ग के जैन समुदाय द्वारा इस दिन विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं l भगवान ऋषभदेव लाखों जैन धर्माबलम्बियों के सामाजिक, सांस्कृतिक एवं स्वाभिमान की पहचान और गौरव के प्रतीक हैं l परन्तु अल्पसंख्यक वर्ग के जैन समुदाय के द्वारा कई बार करबद्ध निवेदन करने के बावजूद भी सरकार द्वारा ऋषभदेव भगवान के जन्म एवं दीक्षा कल्याणक महोत्सव पर सार्वजनिक अवकाश घोषित नहीं करने के कारण जैन समुदाय के लोगों मे काफी आक्रोश व्याप्त हैं l
मंगल चन्द जैन ने बताया की माननीय महामहिम राष्ट्रपति एवं  प्रधानमंत्री महोदय से माननीय जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट अन्तर सिंह नेहरा के माध्यम से करबद्ध निवेदन किया गया है की वर्ष 2022 के अन्तर्गत देवाधिदेव भगवान ऋषभदेव के जन्म एवं दीक्षा कल्याणक महोत्सव पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किये जाने का आदेश पारित करने के साथ -साथ उनके योगदान को भी पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए साथ ही दूरदर्शन पर उनके ऊपर बनी फिल्म को प्रसारित करवाने के लिये श्रम करने के लिए निवेदन किया गया हैं l