स्कैनरे टेक्नोलॉजीज लिमिटेड ने सेबी को डीआरएचपी फाइल की

मुंबई, 30 जून, 2021:  मेडिकल उपकरणों के डिजाइनिंग, डेवलपमेंट, निर्माण और मार्केटिंग में संलग्न कंपनियों में एक प्रमुख भूमिका निभाने वाली स्कैनरे टेक्नोलॉजीज लिमिटेड ( स्रोत : क्रिसिल रिपोर्ट) ने मार्केट रेगुलेटर सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया ( “सेबी”) को ड्राफ्ट रेड हेर्रिंग प्रॉस्पेक्टस (“डीआरएचपी”) फाइल की. कंपनी वैश्विक स्तर पर उत्पादों के विविध पोर्टफोलियो की पेशकश करती है, जिसमें अस्पतालों, ओईएम्स और व्यक्तिगत चिकित्सा प्रयोग / खुदरा बिक्री के लिए पेशेन्ट मॉनिटरिंग सिस्टम, कार्डियोलॉजी डिवाइसेस, रेस्पिरेटरी मैनेजमेंट सिस्टम और रेडियोलॉजी/इमेजिंग सिस्टम शामिल हैं.  कंपनी के उत्पाद आंतरिक रूप से इसके स्वामित्व वाली बौद्धिक संपदा के आधार पर डिजाइन किए और बनाए जाते हैं. 31 दिसंबर 2020 को, कंपनी ने 27 पेटेंट, 49 ट्रेडमार्क, और 11 डिजाइन के रजिस्ट्रेशन की अनुमति प्राप्ति की है. वित्तीय वर्ष 2020 में, कंपनी ने अपनी उत्पादों और सेवाओं को 20 देशों में 1830 से अधिक उपभोक्ताओं को बेचा है

अपनी शुरूआती सार्वजनिक पेशकश के द्वारा कंपनी का इक्विटी शेयर पूंजी के फ्रेश इश्यूज़ द्वारा 4, 000 मिलियन रूपये जुटाने का लक्ष्य है; आईपीओ भी बिक्री कर्ता शेयर धारको द्वारा 10 रूपये की फेस वैल्यू वाले 14,106,347 इक्विटी शेयर तक की बिक्री की पेशकश करता है.

बिक्री के लिए पेशकश में (i) विश्व प्रसाद अल्वा द्वारा 400,000 तक के इक्विटी शेयर और छायादीप प्रॉपर्टीज प्राईवेट लिमिटेड द्वारा 1,000,000 तक के इक्विटी शेयर (“ संयुक्त रूप से, प्रमोटर सेलिंग शेयरहोल्डर्स”) (ii) एसेंट कैपिटल द्वारा 8,000,000 तक के इक्विटी शेयर (इन्वेस्टर सेलिंग शेयरहोल्डर्स) और (iii) दूसरे  सेलिंग शेयरहोल्डर्स द्वारा 4,706,347 शेयर्स (संयुक्त रूप से, सेलिंग शेयरहोल्डर्स) शामिल हैं.

कंपनी ने इश्यू से प्राप्त शुद्ध आय को निम्नलिखित वस्तुओं के प्रति खर्च करने की पेशकश की है (i) इन ऑर्गेनिक वृद्धि के लिए फंडिंग (1300 मिलियन रूपये तक)   (ii) इसकी कंपनी की पूंजी जरूरतों के लिए 700 मिलियन तक की फंडिंग  (iii)  इसकी सहायक कंपनियों में 700 मिलियन तक का निवेश   (iv) पूंजीगत व्यय और सामान्य व्यावसायिक उद्देश्य के लिए 419.16  मिलियन की फंडिंग

कंपनी इनऑर्गेनिक वृद्धि से जिन प्रमुख उद्देश्यों को हासिल करना चाहती है वे हैं (I)   इसकी तकनीकी क्षमता की वृद्धि करना और वे मॉडलिटीज जिसमें यह कार्यरत है उसका विस्तार करना (II) नये क्लांइट प्राप्त करना और इसकी सेवाओं की पेशकश का विस्तार करना और इसकी भौगोलिक पहुंच में वृद्धि करना. इन ऑर्गेनिक वृद्धि के साथ साथ, कंपनी की योजना आईपीओ से प्राप्त आय से इसकी मौजूदा निर्माण क्षमता का विस्तार करने का भी है. इसकी योजना इसके विस्तार के साथ साथ आय के कुछ भागों का उपयोग इसके विस्तार और सहायक कंपनियों के पूंजीगत जरूरतों को फंडिंग प्रदान करने की भी है.

मोतीलाल ओसवाल इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स लिमिटेड, नोमुरा फाइनेंशियल एडवाइजरी एंड सिक्योरिटीज (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड और आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज लिमिटेड इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर्स हैं.

 

About Patrika Jagat