राजस्थान फुटबॉल एसोसिएशन करेगा संतोष ट्रॉफी के मुकाबले की मेजबानी

Editor – Dinesh Bharadwaj
संतोष ट्रॉफी का 75वां संस्करण, सीनियर पुरुष प्रतियोगिता का पहला अवसर।
– राजस्थान फुटबॉल संघ जल्द ही खिलाड़ी रजिस्ट्रशन पोर्टल करेगा शुरू।
जयपुर, 18 नवम्बर। 
आज़ादी पूर्व 1941 से आयोजित हो रही सीनियर पुरुष राष्ट्रीय प्रतियोगिता संतोष ट्रॉफी के मैचों की मेजबानी राजस्थान ने आयोजित करने का मौका प्राप्त किया। संतोष ट्रॉफी का 75वां संस्करण के पश्चिमी जोन के मुक़ाबले की मेजबानी राजस्थान फुटबॉल एसोसिएशन (आरएफए) द्वारा की जाएगी। जिसके चलते जयपुर शहर में पूर्णिमा यूनिवर्सिटी में 1 से 5 दिसम्बर के मध्य मैचेज खेले जाएंगे। इसी से सम्बंधित जानकारी देने के लिए प्रेस ब्रीफिंग में आरएफए के सचिव दिलीप सिंह शेखावत, आरएफए के कोषाध्यक्ष कैलाश खटीक, राजस्थान ओलिंपिक एसोसिएशन के कार्यकारी सदस्य महिपाल सिंह, राजस्थान नेशनल प्लेयर जीतेन्द्र सिंह, पूर्णिमा यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर राहुल सिंघी मौजूद रहे।
इस दौरान राजस्थान फुटबॉल एसोसिएशन के सचिव दिलीप सिंह शेखावत ने तैयारियों का जायज़ा दिया। उन्होंने बताया कि 2020 में हुए चुनाव में स्पष्ट बहुमत के साथ राजस्थान फुटबॉल एसोसिएशन अध्यक्ष कर्नल मानवेन्द्र सिंह जसोल और सचिव दिलीप सिंह शेखावत के नेतृत्व में गठित हुई। कोरोना काल की विभिन्न पाबंदियों के बावजूद भी विगत 1 साल से राजस्थान फुटबॉल एसोसिएशन ने अपने प्रयासों में कमी नहीं आने दी और इसके फलस्वरूप इस खेल की सबसे बड़ी राष्ट्रीय प्रतियोगिता संतोष ट्रॉफी के मैचों की मेज़बानी राजस्थान में करने का मौक़ा प्राप्त किया।संतोष ट्रॉफी अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ आयोजित सीनियर पुरुष राष्ट्रीय प्रतियोगिता है जो कि आज़ादी पूर्व 1941 से होती आ रही है।पिछले 80 साल के इतिहास में यह संतोष ट्रॉफी का 75वां संस्करण है।राजस्थान ने तीन बार जूनियर (1963-64), सब जूनियर (1991-92) और सब जूनियर (2017-18) स्तर पर राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का आयोजन किया है लेकिन सीनियर पुरुष प्रतियोगिता को आयोजित करने का यह प्रथम अवसर है।

आरएफए के कोषाध्यक्ष कैलाश खटीक ने बताया कि संतोष ट्रॉफी के पश्चिमी ज़ोन के मुक़ाबले जयपुर शहर में पूर्णिमा युनिवर्सिटी में 1 से 5 दिसम्बर के मध्य खेले जाएंगे। टूर्नामेंट की अन्य दो टीमें महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश है। 1 दिसम्बर को उद्घाटन मुक़ाबला राजस्थान और मध्य प्रदेश की टीमों के बीच होगा। 3 दिसम्बर को मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के बीच मुक़ाबला होगा और अंतिम मैच 5 दिसम्बर को राजस्थान और महाराष्ट्र के बीच खेला जाएगा।
इस दौरान महिपाल सिंह कहते है कि राजस्थान फुटबॉल का एक समृद्ध इतिहास रहा है। खेल को जमीनी स्तर पर मजबूत बनाने के लिए खिलाड़ियों का डेटाबेस होना बहुत जरुरी है और उसी दिशा में राजस्थान फुटबॉल संघ जल्द ही खिलाड़ी रजिस्ट्रशन पोर्टल शुरू करने जा रहा है जिसमें राज्य के सभी खिलाड़ियों को रजिस्टर्ड किया जाएगा। आगामी साल में छोटी उम्र के खिलाड़ियों के लिए ग्रास रुट लेवल प्रोग्राम किए जाएंगे। फुटबॉल के छोटे संस्करण फुटबॉल और बीच फुटबॉल को भी आगामी साल में आयोजित किया जायेगा।

About Patrika Jagat