एक व्यापक डिजिटल ऋण कार्यक्रम ’संजीवनी’ शुरू करते हुए ‘यू ग्रो केपिटल’ का लक्ष्य 5,00,000 एमएसएमई तक पहुंचना

Edit-Rashmi Sharma

जयपुर 27 जून 2020  – छोटे व्यवसायों को ऋण देने वाले तकनीक आधारित प्लेटफार्म यू ग्रो केपिटल ने आज भारत में एमएसएमई क्षेत्र को पूंजीगत मदद देने के लिए संपूर्ण डिजिटल प्लेटफार्म ‘संजीवनी’ को शुरू किए जाने की घोषणा की। यह प्लेटफाॅर्म कोविड के बाद पूंजीगत धन की कमी से जूझ रहे एमएसएमई को डिजिटल ऋण देगा। कंपनी 5,00,000 एमएसएमई ग्राहकों तक पहुंचने के लिए प्रतिबद्ध है। यू ग्रो कैपिटल इस कार्यक्रम को 27 जून को वल्र्ड एमएसएमई डे के उपलक्ष में ला रहा है।

यू ग्रो केपिटल ने बड़ी मजबूती के साथ इस डिजिटल तानेबाने का निर्माण किया है जो कि उद्योग-आधारित केवाईसी, व्यक्तिगत चर्चाओं और एल्गोरिथम-चालित जोखिम की भविष्यणवाणियों जैसे टूल्स से सशक्त है। उद्योग में अपनी तरह का यह पहला प्रोग्राम है जो 2 करोड़ रुपयों तक के त्वरित ऋण (दोनों – सुरक्षित और असुरक्षित) देगा ताकि व्यवसायों को फिर से शुरू किया जा सके और अर्थव्यवस्था कोविड के चलते आए तीन महीने के अंतराल से उबर सके। 1 जुलाई को लॉन्च होने वाला यह कार्यक्रम व्यवसायों के लिए तीन-महीने तक इन-बिल्ट, अपफ्रंट, मोरटोरियम सहायता भी प्रदान करता है जिनका कार्यशील पूंजी चक्र आपूर्ति शृंखला टूटने, श्रम मुद्दों या कोविड-19 के दौरान देशव्यापी लाॅकडाउन के चलते प्रतिकूल नकदी प्रवाह से बाधित हुआ है।

‘संजीवनी’ कर्ज लिए जाने के अनुभव को आसान बनाते हुए ऋण वितरण प्रक्रिया को तेज करेगा, विशेषकर कोविड-19 के वातावरण में जहां एमएसएमई के लिए भौतिक सत्यापन में बहुत चुनौतियां हैं। आवेदन पत्र भरने, दस्तावेजों को साझा करने और ऋण के संवितरण से लेकर पूरी प्रक्रिया, आवेदक के साथ संबंधित दस्तावेजों की उपलब्धता के आधार पर 3-5 व्यावसायिक दिनों के भीतर आपके कार्यस्थल से पूरी हो सकती है। इस सेगमेंट में कर्ज के वितरण तक पहुंचने में जहां पहले कई सप्ताह लग जाते थे, यह एक बड़ा सुधार है।

यू ग्रो केपिटल के एक्जीक्यूटिव चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर शचींद्र नाथ ने कहा, ‘यू ग्रो केपिटल, एमएसएमई क्षेत्र की अनसुलझी ऋण जरूरतों को नया जीवन देने वाले एक व्यवसाय के रूप में स्थापित की गई थी ताकि यह क्षेत्र सशक्त हो, अर्थव्यवस्था के उत्थान में हो और निर्माण समुदाय में नई नौकरियां तैयार हो सके। वर्तमान में, एमएसएमई क्षेत्र कोविड-19 के बाद फिर से अपने काम में जुटने लगा है। अब तक, सरकार ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) को कर्ज देने और व्यक्तियों की आय की रक्षा करने में मदद करने के लिए 20 लाख करोड़ रूपयों के वित्तीय पैकेज की पेशकश की है। सरकार और ऋणदाताओं के प्रयासों के बावजूद, यह क्षेत्र श्रमिक मुद्दों और आय सृजन की कमी के चलते पिछड़ गया है। ‘संजीवनी’, अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य को पुनर्जीवित करने के लिए महत्वपूर्ण समय पर पूंजी तक पहुंच देकर इस क्षेत्र को लाभान्वित करने के लिए तैयार है। हमें विश्वास है कि इस कार्यक्रम के माध्यम से हमारी प्रतिबद्धता देश भर के कई उद्यमियों को अपने व्यवसायों को फिर से पहले की तरह खड़ा करने में मददगार रहेगी।‘

‘संजीवनी’ की विशेषताएं इस प्रकार हैंः
ऽ प्रमुख केंद्रित क्षेत्रः हेल्थकेयर, शिक्षा, रसायन, खाद्य प्रसंस्करण / एफएमसीजी, आतिथ्य, विद्युत उपकरण और घटक, ऑटो घटक, लाइट इंजीनियरिंग
ऽ राशि की सीमाः 10 लाख – 25 लाख रुपए (असुरक्षित) और 50 लाख – 2 करोड़ रुपए (सुरक्षित)
ऽ ऋण की अवधिः 2 – 36 महीने (असुरक्षित) और 7 – 10 वर्ष (सुरक्षित)
ऽ डिस्बर्सल के लिए टाइम लाइनः इंडस्ट्री बेस्ट टीएटी

ऋण प्राप्त करने की प्रक्रिया इस प्रकार हैः
ऽ एमएसएमई ऋण आवेदन होगा -एक ग्रो पाटर्नर (डीएसए) की मदद से या सीधे (1 जुलाई 2020 के बाद शुरू किया जाएगा)
ऽ जीएसटी अपलोड (ओटीपी के माध्यम से) और बैंक विवरण
ऽ 60 मिनट के भीतर सैद्धांतिक अनुमोदन मिलेगी।
ऽ यू ग्रो केपिटल आवेदन पूरा करने के लिए एमएसएमई तक पहुंचेगी और एक वीडियो केवाईसी, वीडियो व्यक्तिगत चर्चा होगी, डिजिटल रूप से ऋण दस्तावेजों पर हस्ताक्षर होंगे
ऽ ई-एनएसीएच सेटअप पूरा किया जाएगा।
ऋण का संवितरण हो जाएगा।

यू ग्रो केपिटल ने शुरुआत से ही पूरी तरह से एकीकृत प्रौद्योगिकी और एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म द्वारा पूरक क्षेत्रीय समझ के आधार पर एक मजबूत एमएसएमई वित्तपोषण प्लेटफाॅर्म बनाने की पहल की है। उदाहरण के लिए, क्रेडिट स्कोरिंग और अंडरराइटिंग पूरी तरह से डिजिटल है और व्यापार की शुरुआत के बाद से

मशीन लर्निंग एल्गोरिथम प्लेटफॉर्म (जीओएस स्कोर) द्वारा निष्पादित किया जाता है। यह प्लेटफाॅर्म यू ग्रो को आवेदन को (सभी प्रासंगिक प्रलेखन के साथ) इन-थ्योरी अनुमोदन प्रदान करने या 60 मिनट के भीतर मामलों को अस्वीकार करने में सक्षम बनाता है। एप्लीकेशंस में लाॅग-इन, पार्टनर्स-ऐप जीआरओ$ का उपयोग करके भी डिजिटल रूप से की जा सकती है।