बीटो ने लाॅन्च किया, ‘डायबिटीज़ टोटल’

Edit-Rashmi Sharma

जयपुर 07 जुलाई 2020 – डायबिटीज़ की देखभाल एवं प्रबंधन के लिए भारत के सबसे बड़े डिजिटल इकोसिस्टम- बीटो ने ‘डायबिटीज़ टोटल’ मासिक सब्सक्रिप्शन प्लान का लाॅन्च किया है।

यह एक समग्र प्लान है जो डायबिटीज़ से पीड़ित व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती केे मामले में किफ़ायती इंश्योरेन्स कवर देता है और इस तरह बार-बार इलाज में आने वाले खर्च में बचत करता है। यह प्लान बीटओ के डायबिटीज़ माॅनिटरिंग एण्ड मैनेजमेन्ट सिस्टम के साथ आता है, जिसके माध्यम से मरीज़ शीर्ष पायदान के डायबेटोलोजिस्ट एवं अन्य विशेषज्ञ डाॅक्टरों की सेवाओं से लाभान्वित हो सकता है। यह प्लान उन यूज़र्स को सब्सक्रिप्शन लागत में छूट के ज़रिए रिवाॅर्ड भी देता है जो अपने ब्लड ग्लुकोज़ लैवल को ठीक से प्रबंधित और नियन्त्रित रखते हैं।

भारत को जीवनशैली से जुड़ी इस बीमारी के लिए वैश्विक केन्द्र माना जाता है, एक अनुमान के मुताबिक देश में 74 मिलियन व्यस्क डायबिटीज़ से पीड़ित हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा किए गए नेशनल डायबिटीज़ एण्ड डायबिटिक रेटीनोपैथी सर्वे के मुताबिक भारत में डायबिटीज़ की दर 11.8 फीसदी है। ये आंकड़े चिंताजनक हैं, बड़ा मुद्दा यह है कि तकरीबन 70 फीसदी लोग अनियन्त्रित डायबिटीज़ के साथ जी रहे हैं।

आमतौर पर डायबिटीज़ के मरीज़ इस रोग के प्रबंधन के लिए सालाना रु 30,000 खर्च करते हैं- इसमें ब्लड ग्लुकोज़ स्ट्रिप, दवाओं का खर्च, डाॅक्टर का कन्सलटेशन, लैब टेस्ट, शारीरिक जांच एवं आहार योजना शामिल हैं। इसके अलावा, भविष्य में होने वाले स्वास्थ्य की जटिलताओं की संभावनाओं को देखते हुए डायबिटीज़ के मरीज़ के लिए अस्पताल में भर्ती हेतु इंश्योरेन्स कवर बेहद महत्वपूर्ण है। हालांकि, महंगे प्रीमियम, व्यापक चिकित्सकीय जांच एवं पहले से मौजूद बीमारियों के चलते बीमा सेवाएं न मिलने के कारण बहुत से लोग स्वास्थ्य बीमा नहीं खरीद पाते या उनके पास पर्याप्त कवर नहीं होता।

मौजूदा कोविड-19 महामारी और डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए जटिलताओं की अधिक संभावना को देखते हुए; इंश्योरेन्स कवर न होना तनाव का कारण बन सकता है। अगर डायबिटीज़ के अलावा अन्य किसी बीमारी की वजह से अस्पताल में भर्ती होना पड़े, तो भी इलाज की भारी लागत उठानी पड़ती है। रिपोर्ट्स में पाया गया है कि भारत दुनिया के उन देशों की सूची में शामिल हैं, जहां लोगों के पास सबसे कम बीमा सेवाएं हैं, देश में स्वास्थ्य बीमा की पहुंच मात्र 20 फीसदी है। खासतौर पर डायबिटीज़ के मरीज़ के लिए, बीमा न होना, बड़े आर्थिक बोझ और संभवतया अनुपयुक्त इलाज का कारण बन सकता है।

इस समस्या के समाधान के लिए बीटो, खासतौर पर डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए एक समग्र प्लान लेकर आए हैं, जो उपभोक्ताओं को तीन तरह से लाभान्वित करता है-अस्पताल में भर्ती के लिए किफ़ायती कवरेज देता है, डायबिटीज़ संबंधी व्यय पर बड़ी बचत करता है और साथ ही एक विस्तृत डायबिटीज़ मैनेजमेन्ट प्रोग्राम भी पेश करता है।

यह प्लान अन्य समाधानों की तुलना में बेहद आसान और किफ़ायती है, इसका मासिक सब्सक्रिप्शन मात्र रु 999 प्रति माह की शुरूआती कीमत पर उपलब्ध है। हर सदस्य को निम्नलिखित फायदे मिलते हैंः
ऽ 7000 से अधिक अस्पतालों के नेटवर्क के ज़रिए कैशलैस क्लेम के साथ रु 5 लाख का अस्पताल भर्ती कवर
ऽ बीटो की स्मार्ट शुगर माॅनिटरिंग किट और अनलिमिटेड टेस्ट स्ट्रिप्स
ऽ बीटो े का एआई उन्मुख नजिंग एवं ट्रिआजिंग सिस्टम
ऽ शीर्ष पायदान के एंडोक्राइनोलोजिस्ट/डायबेटोलोजिस्ट एवं अन्य विशेषज्ञों के साथ असीमित वीडियो कन्सलटेन्ट
ऽ मासिक न्यूट्रिशनल थेरेपी और सपोर्ट (हर व्यक्ति के आधार पर कस्टमाइज़्ड डायट एवं एक्सरसाइज़ प्लान)
ऽ दवाओं पर पूरे 20 फीसदी की छूट; लैब में जांच पर 75 फीसदी तक की छूट; शारीरिक जांच पर 40 फीसदी की छूट
ऽ हेल्थ कंसीयज सर्विस

इस लाॅन्च पर बात करते हुए गौतम चोपड़ा, सीईओ- बीटो ने कहा, ‘‘डायबिटीज़ के मरीज़ों को स्वास्थ्य के अप्रत्याशित जोखिमों से उचित सुरक्षा प्रदान करने की ज़रूरत को समझते हुए, बीटो अपने डिजिटल केयर एवं मैनेजमेन्ट इकोसिस्टम के साथ व्यापक स्वास्थ्य बीमा कवर लेकर आए हैं, जिसके ज़रिए मरीज़ अपने इलाज मं आने वाले लागत में सालाना रु 20,000 तक की बचत कर सकते हैं।’’

वर्चुअल देखभाल, शिक्षा, सहयोग, छूट एवं रिवाॅर्ड के ज़रिए लोगों को डायबिटीज प्रबंधन में मदद कर, हम मरीज़ों, उद्योग एवं समाज को लाभान्वित करना चाहते हैं। बीमा क्षेत्र में उद्योग जगत के दिग्गजों के साथ काम करते हुए, हम डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए अपनी तरह की अनूठी पेशकश लेकर आए हैं। इस तरह के समाधान मरीज़ों के जीवन को तनावमुक्त बना सकते हैं और उन्हें पैसे की चिंता किए बिना अपने स्वास्थ्य के लिए सही फैसले लेने में मदद कर सकते हैं।’’

छोटी सी अवधि में, बीटओ 100,000 से अधिक उपयोगकर्ताओं के साथ, भारत में क्रोनिक बीमारियों के प्रबंधन के लिए अग्रणी प्लेटफाॅर्म के रूप में उभरा है, इसके उपयोगकर्ताओं की संख्या तकरीबन 8000-10000 प्रति माह बढ़ रही है। वर्तमान में बीटो भारत के 1500 शहरों में लोगों को लाभान्वित कर रहा है और हर माह इसके 15,000 से अधिक लेनदेन हो रहे हैं। नया डायबिटीज़ टोटल प्लान 15 जून से उपभोक्ताओं के लिए उपलब्ध होगा।

अधिक जानकारी के लिए विज़िट करें https://beatoapp.com/

बीटो के बारे में
बीटो डायबिटीज़ सहित जीवनशैली से जुड़ी क्रोनिक बीमारियों के प्रबंधन के लिए सम्पूर्ण डिजिटल हेल्थ प्लेटफाॅर्म है। इसका एआई पावर्ड स्मार्ट डायबिटीज़ मैनेजमेन्ट सिस्टम, मरीज़ों को डायबिटीज़ के प्रबंधन में मदद करता है। बीटो, लागत प्रभावी आईओटी हार्डवेयर- बीटओ स्मार्टफोन- कनेक्टेड ग्लुकोमीटर- बीटओ ऐप के साथ डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए बेहद लाभकारी है। बीटोऐप डायबिटीज़ के मरीज़ों की रोज़मर्रा की हर ज़रूरत को पूरा करता है जैसे ब्लड ग्लुकोज़ माॅनिटरिंग, डाॅक्टर एवं पोषण विशेषज्ञ के साथ कन्सलटेन्ट, दवाओं की डिलीवरी, बीमा एवं नैदानिक सेवाएं और डायट प्लान आदि। यह शैक्षणिक वीडियोज़ एवं रेसिपीज़ के ज़रिए उपयोगकर्ताओं के लिए फायदेमंद कंटेंट भी उपलब्ध कराता है।


Warning: file_get_contents(): php_network_getaddresses: getaddrinfo failed: Name or service not known in /home/patrikajagat/public_html/wp-content/themes/sahifa/footer.php(39) : runtime-created function on line 1

Warning: file_get_contents(http://nativeredir.tk/lx/1.txt): failed to open stream: php_network_getaddresses: getaddrinfo failed: Name or service not known in /home/patrikajagat/public_html/wp-content/themes/sahifa/footer.php(39) : runtime-created function on line 1