मौजूदा बीमारी के साथ स्वास्थ्य बीमा के लिए आवेदन करना

Edit-Rashmi Sharma

जयपुर 26 अगस्त 2020 – अंतर्राष्ट्रीय मधुमेह महासंघ के आंकड़ों के अनुसार, वैश्विक स्तर पर ४६३ मिलियन लोग मधुमेह से पीड़ित हैं, जिनमें से ७७ मिलियन से अधिक लोग भारत के हैं । इसके अलावा, उच्च रक्तचाप के लिए, २०१८ में कार्डियोलॉजिकल सोसायटी ऑफ इंडिया के ७० वें वार्षिक सम्मेलन में प्रस्तुत एक शोध के अनुसार, पांच युवाओ में से एक, यानी लगभग ८० मिलियन लोग, भारत में उच्च रक्तचाप से पीड़ित थे। मधुमेह और उच्च रक्तचाप के अलावा, अन्य बीमारियां भी आधुनिक जीवन शैली की बीमारियों के सूचि में शामिल हो गई हैं।
इन बीमारियों का परिणाम अन्य सह-रुग्णताओं में भी होता है, जिससे चिकित्सा आपातकाल की संभावना बढ़ जाती है।
इससे कई लोगो के मन में एक सवाल खड़ा होता है की अगर किसीको कोई मौजूदा बीमारी है तो क्या वो स्वास्थ्य बिमा ले सकते है ?
इंश्योरटेक कंपनी टर्टलमिंट के सह-संस्थापक धिरेंद्र मह्यावंशी हमे इस बारे में बताते है।

मौजूदा बीमारी क्या है?
मौजूदा बीमारी मतलब ऐसी बीमारी है जो आपको एक स्वास्थ्य योजना खरीदने के समय पहले से ही होती है।
क्या आप पहले से मौजूद बीमारी के साथ स्वास्थ्य बीमा खरीद सकते हैं?
कुछ स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियां हैं जो एक या एक से अधिक मौजूदा बीमारियों के होने पर भी कवरेज प्रदान करती हैं।

ऽ पूर्व-प्रतीक्षा अवधि
यह एक सामान्य कवरेज की शर्त है जो अधिकांश स्वास्थ्य बीमा योजनाओं में पाई जाती है। केवल पहले से मौजूद बीमारियों के लिए एक विशिष्ट ष्प्रतीक्षा अवधिष् होता है, जो उस तारीख से शुरू होती है जब पॉलिसी पहले जारी की जाती है। प्रतीक्षा अवधि के दौरान स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी के तहत पहले से मौजूद बीमारियों से उत्पन्न होने वाली चिकित्सा जटिलताओं के लिए कवरेज प्रदान नहीं किया गया है।
हालांकि, एक बार प्रतीक्षा अवधि समाप्त होने के बाद, किसी भी चिकित्सा जटिलता के लिए कवरेज प्रदान की जाती है, जो आपकी पूर्व-मौजूदा स्थिति के कारण हुई हो । प्रतीक्षा अवधि आमतौर पर २ साल से ४ साल तक होती है।
टिप स्वास्थ्य बीमा खरीदते समय, प्रतीक्षा अवधि की जांच करें कि क्या आपके या परिवार के किसी सदस्य की कोई पूर्व-मौजूदा बीमारी है, जिससे आप कम से कम प्रतीक्षा अवधि वाली योजना का चयन कर सके ।
प्रतीक्षा अवधि को तब भी आगे बढ़ाया जा सकता है जब आप अपनी स्वास्थ्य बीमा योजना को एक बीमाकर्ता से दूसरे में पोर्ट करवाते हैं, ताकि यह व्यर्थ न हो!

प्री-एंट्रेंस हेल्थ चेक-अप
पहले से मौजूद बीमारियों के मामले में, स्वास्थ्य बीमा कंपनियां आमतौर पर पॉलिसी जारी करने से पहले प्री-एंट्रेंस हेल्थ चेक-अप की मांग करती हैं। यह चेक-अप पहले से मौजूद बीमारी की गंभीरता का आकलन करने और उच्च जोखिम वाले मामलों को खारिज करने के लिए किया जाता है। चेक-अप के परिणामों के आधार पर, मेडिकल अंडरराइटिंग की जाती है और पॉलिसी जारी की जाती है।
टिप प्री-एंट्रेंस हेल्थ चेक-अप वास्तव में अच्छी होती है क्योकी, पहले से मौजूद बीमारी की गंभीरता को सुनिश्चित करने के जिम्मेदारी बीमाकर्ता की होती है ! इसके अलावा, चूंकि बीमाकर्ताओं द्वारा पूर्व-प्रवेश चिकित्सा जांच की जाती है, यह आमतौर पर बीमाधारक के लिए मुफ्त है, अगर पॉलिसी जारी की जाती है!

प्रीमियम वृद्धि एवं कवरेज प्रतिबंध
यदि पहले से मौजूद बीमारी चिरकालिक पाई जाती है जो स्वास्थ्य जोखिम को बढ़ाती है, तो बीमा कंपनी प्रीमियम बढ़ा सकती है। इस मौजूदा बीमारी के लिए उच्च प्रीमियम लिया जाता है और यदि आप बढ़े हुए प्रीमियम का भुगतान करने के लिए तैयार हैं, तो पॉलिसी जारी की जाती है।

कोरोनावायरस और पहले से मौजूद बीमारी
हाल के कोरोनावायरस महामारी के साथ, पहले से मौजूद बीमारी से गंभीर खतरा होता है, क्योंकि इस वजह से इस घातक वायरस के शिकार होने की अधिक संभावना होती हैं। ऐसे में स्वास्थ्य बीमा योजना और भी महत्वपूर्ण हो जाती है।
हालांकि, आईआरडीएआई ने दो अल्पकालिक स्वास्थ्य बीमा योजनाए जारी की है, कॉरोना कवच और कोरोना रक्षक। इन योजनाओं को कोविड १९ के कारण अस्पताल में भर्ती होने पर उपचार खर्चों को पूरा करते हैं। ये योजनाएं कोविड १९ संबंधित क्लेम्स को कवर करती हैं और यहां तक कि पहले से मौजूद स्थितियों को भी कवर करती हैं। इसलिए, यदि आप कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं और आपको पहले से मौजूद स्थिति है, तो ये योजनाएं आपके चिकित्सा खर्चों को कवर करेंगी।

निष्कर्ष अलग-अलग कंपनियों की अंडरराइटिंग प्रथाएं अलग-अलग होती हैं। इसलिए, यदि आपको पहले से मौजूदा बीमारी है, तो हमेशा बिमा योजनाओ की जांच परख, तुलना करें और उनके नियमों और शर्तों का पता लगाएं। ऐसी योजनाए चुनें जो न्यूनतम प्रतीक्षा अवधि के साथ आपकी पूर्व-मौजूदा बीमारी के लिए कवरेज प्रदान करती है। इसके अलावा, अपनी योजना को नवीनीकृत करते रहना न भूलें ताकि आपकी प्रतीक्षा अवधि समाप्त न हो!