PM INDIA Shree Narendar Modi and CM Rajasthan Shree Ashok Ghelot

कोविड 19 में केसे मिसाल बना राजस्थान मॉडल -पहले कोरोना केस से लेकर आज तक की कहानी

Edit-Rashmi Sharma

जयपुर 26 अगस्त 2020 – जैसे-जैसे देश अनलाॅक-4 की ओर तेजी से बढ़ रहा है, अधिकांश राज्यों में महामारी के चरम के दौरान लगाए गए प्रतिबंधों को कम करने की योजना है। राजस्थान में हर महीने कई प्रतिबंध हटाने के साथ, राज्य ने दो मोर्चों पर लड़ाई लड़ने में अपनी पूरी मशीनरी को समर्पित किया है, एक युद्ध स्तर पर जागरूकता फैलाने में और दूसरा, विस्तारित स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ रोगियों का इलाज करने में। रेगिस्तानी प्रदेश के कई जिलों में अभी भी अनिवार्य सप्ताहांत कफ्र्यू है, लेकिन अधिकांश गतिविधियां चालू कर दी गई है।
पहला मामला और उसके बाद
जब राजस्थान ने 2 मार्च, 2020 को इस क्षेत्र में पहला मामला दर्ज किया, तो प्रशासन तुरंत कार्रवाई में जुट गया और जहां भी आवश्यक हो वहां कफ्र्यू लगा दिया। जरा भी देर किए बिना सतर्क मुख्यमंत्री ने इमरजेंसी स्तर पर काम किया और भीलवाड़ा और झुंझुनू के कंटेनमेंट क्लस्टर्स में धारा 144 लागू की गई। डोर-टु-डोर सर्वे के साथ टेस्टिंग और उपचार के कई आवश्यक चरणों को लागू किया गया। योजना एक सख्त नियंत्रण मॉडल के रूप में सामने आई और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भी इसकी सराहना की। प्रसिद्ध भीलवाड़ा मॉडल को केंद्र द्वारा कई कैबिनेट बैठकों में भी सराहा गया था।
चाक-चैबंद और वॉर रूम सेटअप से लैस प्रशासन
राज्य में स्वास्थ्य के कल्याण के लिए निर्णय युद्ध स्तर पर लिए गए थे और सभी कार्यालय, चाहे वे निजी हो या सरकारी, घर से काम करने लगे। निजी प्रतिष्ठानों को किसी भी मामले में कर्मचारियों को आॅफिस नहीं बुलाने के लिए सख्ती से पाबंद किया गया । त्वरित प्रशासनिक निर्णय लॉकडाउन के सुचारू निष्पादन को ध्यान में रखते हुए किए गए थे और बाद में राज्य में चैबीसों घंटें-सातों दिन की स्थिति पर नजर रखने के लिए एक वार रूम भी स्थापित किया गया था। वरिष्ठ आईएएस, आईपीएस और आरएएस अधिकारियों की टीम को राज्य की निगरानी रखने के लिए तीन शिफ्टों में प्रतिनियुक्त किया गया था। कोर ग्रुप की स्थापना अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस), एसीएस, चिकित्सा और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग और अन्य महत्वपूर्ण विभागों के प्रमुख सचिवों के नेतृत्व में की गई थी।
कोर टीम मीट एंड कंट्रोल रूम
कोरोना से संबंधित किसी भी घटनाक्रम पर नजर रखने के लिए राज्य नेतृत्व नियमित बैठकें लेता रहा है। एक मुख्यमंत्री स्तर की बैठक दैनिक आधार पर आयोजित की जा रही है जिसमें कोर टीम और वॉर रूम के अधिकारी शामिल हैं। इन बैठकों के अलावा, जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षक के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग भी नियमित रूप से की जा रही है। कोरोना के संबंध में सार्वजनिक संपर्क और शिकायतों को दूर करने के लिए, जिला स्तर पर स्थापित कई अन्य नियंत्रण कक्षों के साथ-साथ अधिकारियों की 24 घंटे की उपलब्धता के साथ एक राज्य स्तरीय हेल्पलाइन 181 भी शुरू की गई है। अब तक इन हेल्पलाइन के माध्यम से लाखों कॉल आई और राजस्थान राज्य के अंतिम व्यक्ति तक मदद पहुंचाने में सफल रहा। लोगों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कोई भूखा न सोए अभियान के बारे में कई अलर्ट भेजे और हर वंचित व्यक्ति को सूखे राशन के पैकेट वितरित किए गए।
राजस्थान में टेस्टिंग और रिकवरी में वृद्धि
शून्य आरटी-पीसीआर परीक्षण सुविधा के साथ, राजस्थान में आज दैनिक आधार पर 52,000 से अधिक आरटी-पीसीआर परीक्षण आयोजित करने की क्षमता है। राज्य ने इन क्षमताओं को कुछ ही महीनों में हासिल किया है। राज्य सरकार और प्रशासन के प्रयासों ने कोरोना के अधिकतम संभावित वाहक का पता लगाने में मदद की है। अब तक, राज्य में 21 लाख 66 हजार से अधिक परीक्षण किए गए हैं, जिनमें से केवल 3.38 फीसदी मामले पाॅजिटिव पाए गए जो कि 8.78 फीसदी के राष्ट्रीय सकारात्मक औसत का एक तिहाई है। राजस्थान में प्रति दस लाख परीक्षण की दर है और 27,226 परीक्षणों के साथ राजस्थान ने इस पैमाने पर गुजरात 29,193, उत्तर प्रदेश 20,552, पश्चिम बंगाल 16,563 और मध्य प्रदेश 14,628 को पीछे छोड़ा है। लोगों की जिंदगी बचाने पर सर्वप्रथम ध्यान देने वाले भारत के मिशन (मिशन एलआईएसए) में भारत की 30 दिनों की दोहरीकरण दर की तुलना में, राज्य ने कुल 79.27 फीसदी रिकवरी के साथ 29 दिनों की दोहरीकरण दर पाने सहित मृत्युदर को 1.34 फीसद पर नियंत्रित किया। राज्य के कंटेनमेंट जोन में मोबाइल ओपीडी वैन चालू हैं।
कोरोना मामलों और स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे का वर्तमान परिदृश्य
राजस्थान में संचयी सकारात्मक मामलों की संख्या 73,935 तक पहुंच गई है, जिसमें से 58,342 लोग रिकवर हुए हैं और रिकवरी की तादाद प्रतिदिन बढ़ रही है। राज्य में सक्रिय मामलों की वर्तमान संख्या 14,607 है। समय के साथ, राजस्थान ने स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में भी बदलाव किया है और 7,724 ऑक्सीजन सहित बेड और 901 वेंटिलेटर के साथ 415 कोविड फैसिलिटी उपलब्ध कराई हैं। कई क्वाॅरंटीन केंद्रों में उपलब्ध बिस्तरों की संख्या भी किसी भी दुर्घटना से निपटने के लिए पर्याप्त है क्योंकि लगभग 1593 ऐसे केंद्रों में स्टैंडबाय पर कुल 1,14,288 बिस्तरों की क्षमता है। गैर-सरकारी अस्पतालों को अच्छी सुविधाओं के साथ अधिकृत करने या आयुष्मान भारत योजना के साथ कोरोना के इलाज के लिए जोड़ने के दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।
प्लाज्मा थेरेपी
जिन रोगियों को तत्काल सहायता की आवश्यकता है या वे गंभीर हैं, उनका उपचार प्लाज्मा थेरेपी से किया जा रहा है क्योंकि राज्य को 240 से अधिक यूनिट प्लाज्मा मिले हैं, जिनमें से 159 से अधिक लोगों को उपचार दिया गया है। इस चिकित्सा सुविधा से सुसज्जित केंद्र सवाई मान सिंह अस्पताल, जयपुर, बीकानेर, जोधपुर, कोटा और जोधपुर हैं। राज्य सरकार ने झालावाड़ और अजमेर में भी इसे शुरू करने की योजना बनाई है।
आयुर्वेदिक बचाव भी
दवाओं के साथ उपचार ही नहीं, राजस्थान सरकार 24 लाख से अधिक लोगों को आयुर्वेदिक औषधि (कढ़ा) और गिलोय पाउडर प्रदान कर रही है और 6 लाख कोरोना योद्धाओं को उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत और स्थिर बनाने के लिए अब तक ऐसे बूस्टर दिए गए हैं।