श्रीराम सुपर 111 गेहूँ बीज से राजस्थान के किसानों की गेहूँ उत्पादकता बढ़ी

Editor-Rashmi Sharma

अलवर, 30 सितम्बर, 2020- राजस्थान के किसानों ने बताया कि डीसीएम श्रीराम लिमिटेड की युनिट श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स की ओर से पेश किए गए श्रीराम सुपर 111 सीड से उनकी गेंहू उत्पादकता बढ़ी है। श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स ने किसानों की फसल उत्पादकता बढ़ाने के लिए आधुनिक एवं अनुसंधान-उन्मुख प्रोडक्ट विकसित किए हैं।

लॉन्च के बाद से ही श्रीराम सुपर 111 गेहूँ बीज राजस्थान के किसानों में बेहद लोकप्रिय हो रहा है। श्रीराम फ़र्टिलाइज़र्स एण्ड कैमिकल्स के विश्वविख्यात गेहूँ वैज्ञानिकों द्वारा इस किस्म को तैयार किया गया है।

गेहूँ की अन्य किस्मों की तुलना में बेहतरीन उत्पदकता के चलते श्रीराम सुपर 111 गेहूँ बीज किसानों में बेहद लोकप्रिय हो रहा है। इसका दाना बड़ा और चमकदार होता है, इससे चारा भी ज़्यादा मिलता है, साथ ही इस गेहूँ से बनी ‘चपाती’ बहुत अच्छी गुणवत्ता की होती है। अपनी इन्हीं विशेषताओं के चलते श्रीराम सुपर 111 गेहूँ बीज राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और गुजरात के किसानों की पहली पसंद बन गया है।

पिछले साल गांव में श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स की ओर से दिया गया एक डेमो देखने के बाद राजस्थान के भीलवाड़ा से एक किसान भोलेनाथ योगी ने अपनी 4 एकड़ ज़मीन में श्रीराम सुपर 111 गेहूँ बीज बोया।

वे अपने इस फैसले से बेहद खुश हैं क्योंकि उनके खेत की उत्पादकता 25 क्विंटल/ एकड़ रही, जो अन्य किस्मों की तुलना में तकरीबन 5 क्विंटल/ एकड़ अधिक है। इससे उनका मुनाफ़ा रु 8000-10,000 प्रति एकड़ बढ़ गया। उन्होंने बताया कि इस किस्म में हर पौधे पर ज़्यादा टिलर्स लगते हैं, बाली की लंबाई और दानों की संख्या भी अधिक होती है (हर बाली में 75-80 दाने जबकि अन्य किस्मों में यह संख्या 55-60 होती है)। यहां तक कि खराब मौसम में भी उन्हें फसल गिरने की समस्या नहीं आई। उनका कहना है कि श्रीराम सुपर 111 उत्पादकता और गुणवत्ता दोनों के नज़रिए से बेहतर है।

श्रीराम सुपर 111 गेहूँ बीज बोने वाले राजस्थान के अन्य किसान भी इसी तरह की कामयाबी हासिल कर रहे हैं। राजस्थान के टोंक से एक और किसान नरेन्द्र चौधरी ने अपनी 5 एकड़ ज़मीन में श्रीराम सुपर 111 बोया। उनकी उत्पादकता 25-26 क्विंटल/ एकड़ रही, जो अन्य लोकप्रिय किस्मों की तुलना में 3-4 क्विंटल / एकड़ अधिक है। उन्होंने बताया कि पौधे पर टिलर्स की संख्या अधिक थी (हर पौधे में 10-14), हर बाली में 75-85 दाने थे और बाली की लंबाई भी अधिक थी। श्रीराम सुपर 111 के कारण उनका मुनाफ़ा रु 6000 प्रति एकड़ बढ़ गया, इसे लेकर वे बेहद खुश हैं।

श्रीराम सुपर 111 राजस्थान के किसानों की पहली पसंद बन गया है। श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स के अन्य प्रोडक्ट जैसे श्रीराम सुपर 252 और श्रीराम सुपर 231 भी पिछले कुछ सालों से अपने शानदार परफोर्मेन्स के चलते किसानों में बेहद लोकप्रिय हो रहे हैं।