लेदर सेक्टर स्किल काउंसिल ने स्किल इंडिया मिशन के तहत उन्नत गुणवत्ता आश्वासन के लिए स्केल इंडिया एंड्राइड एप लॉन्च किया

Editor-Rashmi Sharma

जयपुर 17 अक्टूबर 2020 : लेदर सेक्टर स्किल काउंसिल ने अपनी सभी सेवाओं में गुणवत्ता को बरकरार रखने और एकीकृत करने के उद्देश्य से आज लेदर कर्मचारियों के लिए स्किल सर्टिफिकेशन असेस्मन्ट फॉर लेदर एम्प्लॉइई (स्केल) इंडिया एंड्राइड एप लॉन्च किया।कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय (एमएसडीई) के तत्वावधान में संचालित लेदर सेक्टर स्किल काउंसिल….असीम पोर्टल पर प्रशिक्षण वितरण, निगरानी, मूल्यांकन, सत्यापन और लिंकेज की गुणवत्ता आश्वासन पर अपनी डिजिटल क्षमताओं को मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध है।मूल्यांकन में से गुणवत्ता आश्वासन लेदर सेक्टर स्किल काउंसिल के मुख्य कार्यों में से एक है। इस अनूठी पहल का मुख्य उद्देश्य लेदर उद्योग को स्किलिंग, लर्निंग, असेसमेंट और एम्प्लॉयमेंट जैसी सारी सुविधाएं एक ही प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करवाना है।

लेदर सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा आयोजित किए गए वर्चुअल कार्यक्रम में माननीय केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय ने इस एंड्रॉइड एप को लॉन्च किया। इस कार्यक्रम में एलएसएससी के अध्यक्ष श्री पी. आर. अकील अहमद जी और सीईओ श्री राजेश रत्नम जी भी उपस्थित थे।यह प्लेटफॉर्म एक ही स्थान पर स्किलिंग और रोजगार इकोसिस्टम के सभी हितधारकों की आवश्यकता को ध्यान में रखता है जैसे कि – अभ्यर्थी/ प्रशिक्षु, नियोक्ता, कर्मचारी, मूल्यांकनकर्ता और प्रशिक्षक।यह एप वेब और एंड्रॉइड एप्लिकेशन के माध्यम से आसानी से सारी सुविधाएँ प्रदान करता है जो किसी भी स्मार्ट डिवाइस जैसे कि डेस्कटॉप / लैपटॉप, स्मार्टफोन, टैबलेट या फैबलेट्स पर चलाया जा सकता है।प्रशिक्षण, मूल्यांकन, और प्रमाणीकरण सेवाओं के दौरान एंड टू एंड गुणवत्ता आश्वासन प्रदान करने के अलावा, यह एप नियोक्ताओं को अन्य हितधारकों के साथ आसानी से जुड़ने में मदद करेगा और लेदर उद्योग के लिए मानव पूंजी के लिए एक बाजार प्रदान करना।

माननीय केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय ने इस पहल पर टिप्पणी करते हुए कहा, “लेदर सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा लॉन्च किए गए स्केल इंडिया प्लेटफॉर्म लेदर स्किलिंग इकोसिस्टम को मजबूत करने के हमारे प्रयासों को बढ़ावा देगा और हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के विज़न आत्मनिर्भर और भारत को विश्व की कौशल राजधानी बनाने में हमारी मदद करेगा। मांग-चालित और भविष्य में प्रासंगिक कुशल कार्यक्रमों को चलाने के लिए कुशल और इंटलिजेंस टूल्स को लाने के लिए तकनीकी का लाभ उठाकरयह प्लेटफ़ॉर्म विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों में सिंगल प्वाइंट इंटरफ़ेस के रूप में समेकित अभिसरण और समन्वय सुनिश्चित करेगा। यह एक ही प्लेटफॉर्म पर सभी हितधारकों को गुणवत्ता सुनिश्चित सेवाएं प्रदान करनेउनकी मांगों को पूरा करने और आपूर्ति मांग को परस्पर जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। “

स्केल एक विशिष्ट क्वालिफिकेशन पैक पर स्किल्स और व्यवहार का आकलन करने और प्रमाणित करने के लिए स्किलिंग इकोसिस्टम में अभ्यर्थी की मदद करेगी। यह स्किल गैप को पहचानने के लिए माइक्रो-लर्निंग मॉड्यूल को भी सक्षम बनाता है जो विशिष्ट क्वालिफिकेशन पैक पर सीखने की प्रक्रिया को पहचाना कर उनका पुनर्मूल्यांकन किया जा सकता है। यह अभ्यर्थी को एक उत्पादक संसाधन बनने के लिए प्रेरित करता है जो वर्तमान में उद्योग में तत्परता से कार्यरत है। अभ्यर्थी आसानी से रोजगार के अवसरों की तलाश कर सकते हैं और अपने प्रमाणीकरण के पूरा होने के बाद नियोक्ताओं के साथ जुड़ सकते हैं। वर्तमान में यह मूल्यांकन अंग्रेजी, हिंदी, तमिल और बंगाली में उपलब्ध हैं, जिसमें चरणबद्ध तरीके से और अधिक क्षेत्रीय भाषाओं को जोड़ने की योजना है।