यस बैंक के निदेशक मंडल द्वारा प्रस्तावित सभी प्रस्तावों को शेयरधारकों ने दिया पूरा समर्थन

मुंबई, 27 अगस्त, 2021- यस बैंक के शेयरधारकों की 27 अगस्त, 2021 को वर्चुअल तौर पर आयोजित हुई 17वीं एनुअल जनरल मीटिंग (एजीएम) में भारी बहुमत के साथ सभी पांच प्रस्तावों को मंजूरी दे दी गई है। एजीएम में रिमोट ई-वोटिंग और इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से वोटिंग के जरिये ये निर्णय लिए गए।

श्री महेश कृष्णमूर्ति, नॉन-एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर और श्री आर. गांधी, आरबीआई द्वारा नियुक्त एडीशनल डायरेक्टर ने एजीएम में दूरस्थ रूप से हिस्सा लिया।

शेयरधारकों ने निम्नलिखित प्रस्तावों को मंजूरी दी–

सामान्य बिजनेसः

1) 31 मार्च, 2021 को समाप्त वर्ष के लिए बैंक के वार्षिक अंकेक्षित स्टैंडअलोन और समेकित वित्तीय विवरणों को अपनाना (साधारण संकल्प);

2) लेखा परीक्षकों की नियुक्ति पर हाल के आरबीआई परिपत्र के अनुपालन में मेसर्स एमपी चितले एंड कंपनी, सांविधिक लेखा परीक्षकों की नियुक्ति की शर्तों में संशोधन (आरबीआई परिपत्र संख्या डीओएस.सीओ.एआरजी/सैक्शन.01/08.91.001/2021- 22 दिनांक 27 अप्रैल, 2021) (साधारण संकल्प);

3) संयुक्त सांविधिक लेखा परीक्षकों (साधारण संकल्प) के रूप में मेसर्स चोकशी और चोकशी एलएलपी, चार्टर्ड एकाउंटेंट्स की नियुक्ति;

विशेष बिजनेसः

4) श्री रवींद्र पांडे (डीआईएन – 07188637) की नामित निदेशक (साधारण संकल्प) के रूप में उल्लेखनीय नियुक्ति; तथा

5) ऋण प्रतिभूतियों को जारी करने के माध्यम से अधिकृत पूंजी जुटाना (विशेष संकल्प)

इस अवसर पर बोलते हुए यस बैंक के चेयरमैन श्री सुनील मेहता ने कहा, ‘बैंक ने पिछले एक साल में कई महत्वपूर्ण मील के पत्थर पार किए है, यह सब संस्था के बुनियादी उसूलों में हमारे ग्राहकों और हितधारकों के भरोसे के बूते हो पाया है। दुनिया भर में सभी व्यवसायों के हौसले की परीक्षा लेने वाले असाधारण समय के दौरान भी बैंक वित्त वर्ष 2021 की पहली तीन तिमाहियों के लिए क्रमिक मुनाफा हासिल करने और तनावग्रस्त संपत्तियों के लिए आवश्यक प्रावधान करने में सक्षम रहा। इसलिए वित्त वर्ष 2022 में हम किसी भी तरह का बोझ साथ लेकर नहीं बढ़ रहे हैं।

आर्थिक नजरिए से जहां कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका को लेकर कुछ अनिश्चितता है पर आरबीआई द्वारा साझा किए गए दूरंदेशी सर्वेक्षण, निजी क्षेत्र के उपभोग अनुमानों और निवेश व्यवहार के संबंध में सकारात्मकता की ओर इशारा कर रहे हैं। यह उत्साहजनक संकेतक हैं। अर्थव्यवस्था में वापसी के लिए वित्त वर्ष 2022 में केंद्र सरकार के पूंजीगत व्यय लक्ष्य मजबूत हैं, जिससे अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक प्रभाव पड़ने की उम्मीद है। नतीजतन, कुछ चुनौतियों के बावजूद, ग्रामीण और शहरी बाजारों में ग्राहकों की सेवा और विकास का समर्थन करने के लिए बैंकिंग क्षेत्र के अवसरों में काफी वृद्धि हुई है।

यस बैंक में, पिछले पूरे वर्ष में, हमने अपने संचालन और लागत को अनुकूलित करने और प्रमुख मापदंडों को मजबूत करने में महत्वपूर्ण प्रगति की है। यह विभिन्न एजेंसियों द्वारा रेटिंग हमारी रेटिंग को बेहतर किए जाने में भी झलक रहा है। शायद कुछ सबसे उल्लेखनीय सुधार उन चुनौतियों से सामने आए हैं जिनका हमने सामूहिक रूप से कोविड-19 के कारण सामना किया, जिसने हमें बेहतर और तेज काम करने के लिए प्रेरित हुए। भविष्य के लिए तैयार होने और मजबूत सतत विकास जारी रखने के लिए बैंक ने सभी शासन, अनुपालन और जोखिम के मुद्दों पर तेजी से कार्यवाही की है।

बैंक ने पिछले वर्ष की तुलना में जमा राशि में 55 फीसदी की वृद्धि के साथ एक मजबूत देनदारी गति हासिल की है। यह सभी क्षेत्रों में ग्राहकों की प्रेरणा से हो सकता है। प्रमुख बैंकिंग सेवाओं के त्वरित डिजिटलीकरण ने यह सुनिश्चित किया है कि ग्राहक अपने घरों की सुरक्षा और आराम से बैंकिंग सेवाओं तक पहुंच सकें। बैंक ने बहुत विस्तृत प्रोटोकॉल स्थापित किए हैं और हमारे समुदायों को सुरक्षित रखने के लिए कई पहल की हैं। इसके अलावा पर्यावरणीय और सामाजिक जोखिमों को भी संबोधित करते हुए बैंकों की मुख्य व्यवसाय रणनीति में ईएसजी से जुड़े विचारों को लागू किया गया है।

बोर्ड स्तर पर लिए गए निर्णयों द्वारा संचालित कार्यों से कई बदलाव हुए। इसने बैंक को निरंतर सुधार और नवाचार के रास्ते पर ला दिया है। यह इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में बैंक के प्रदर्शन से स्पष्ट रूप से प्रदर्शित होता है – सालाना आधार पर 355 फीसदी लाभ बढ़कर 207 करोड़ रुपए हो गया, जो 10 तिमाहियों में सबसे अधिक है। बैंक का फोकस 9.06 बिलियन यूपीआई लेनदेन के रिकॉर्ड के साथ डिजिटलीकरण पर रहा। उद्योग में एक नेता के रूप में, पिछले वर्ष की तुलना में हमने 102 फीसदी की वृद्धि की है। कुल मिलाकर, वित्त वर्ष 2021 के लिए परिचालन लाभ में पिछले वर्ष की तुलना में 42 फीसदी की वृद्धि हुई, जिसने बैंक के परिचालन प्रदर्शन में मजबूत वापसी का प्रदर्शन किया।

हम हितधारकों से किए गए अपने वादों को पूरा करना जारी रखे हुए हैं। हम अपने सभी ग्राहकों को कुशलतापूर्वक और विशिष्ट सेवाएं देने के लिए बैंक की दूरंदेशी दृष्टि और आकांक्षा को बनाए रखेंगे। अपने ग्राहकों के लिए हमने जो मूल्य स्थापित किए हैं, उन्हें बढ़ाते रहने में हम सक्षम हैं। बैंक ने अपनी रणनीतिक प्राथमिकताओं – पूंजी, लागत, तरलता, दबावग्रस्त संपत्ति, जोखिम, शासन और विकास पर अपनी स्थिति को मजबूती से मजबूत किया है। मुझे पूरा विश्वास है कि जैसे-जैसे हम इस रोमांचक यात्रा पर आगे बढ़ेंगे, बैंक अपने सभी हितधारकों के लिए सतत विकास सुनिश्चित करने के लिए अपने सकारात्मक परिवर्तन को जारी रखेगा।’

शुक्रवार, 27 अगस्त, 2021 को आयोजित यस बैंक की 17वीं एजीएम में सभी 8 बोर्ड सदस्यों ने भाग लिया-

ऽ श्री सुनील मेहता, चेयरमैन

ऽ श्री प्रशांत कुमार, प्रबंध निदेशक और सीईओ

ऽ श्री अतुल भेड़ा

ऽ श्री महेश कृष्णमूर्ति

ऽ श्री आर गांधी

ऽ श्री अनंत नारायण गोपालकृष्णन

ऽ श्री वी एस राधाकृष्णन

ऽ श्री रवींद्र पांडे

About Patrika Jagat