राजस्थान सरकार ने 36 जनजातीय विद्यालयों और जनजातीय क्षेत्रों में लगभग 480 छात्रावासों को डिजिटल शिक्षा प्रदान करने के लिए स्कूलनेट के साथ हाथ मिलाया हाथ

उदयपुर 22 नवंबर, 2021- स्कूलों को प्रौद्योगिकी आधारित शिक्षा सेवाएं प्रदान करने वाली एक अनूठी और अग्रणी एडटेक कंपनी स्कूलनेट ने राजस्थान के जनजातीय क्षेत्र विकास विभाग के साथ अपनी साझेदारी की घोषणा की। इसके तहत, राज्य के जनजातीय क्षेत्रों के 24 जिलों के बच्चों के लिए तकनीक संचालित शिक्षण कार्यक्रम और 540 शिक्षकों को डिजिटल प्रशिक्षण देने के लिए मिलकर काम किया जाएगा।

साझेदारी के तहत, कार्यक्रमों के कार्यान्वयन की सक्रिय निगरानी और मूल्यांकन के लिए एक समर्पित कार्य समूह का गठन किया जाएगा। इसके माध्यम से, दोनों का उद्देश्य दी जा रही शिक्षा की गुणवत्ता को मजबूत करना है, साथ ही समाधान के रूप में एडटेक लागू करने और अपनाने में सहायता करना है।

सहयोग में तीन मुख्य घटक होंगेः

(1) रीड टु मीः एक एआई केंद्रित समाधान जो राज्य शिक्षा बोर्डों द्वारा निर्धारित अंग्रेजी पाठ्यपुस्तकों को डिजिटाइज़ करने के लिए एक मल्टी-सेंसरी आधारित दृष्टिकोण का लाभ उठाता है। सामग्री तक पहुंच को आसान बनाने के लिए, यूआई क्षेत्रीय भाषाओं का उपयोग करता है। इसके तहत, कक्षा 6-12 के छात्र एक क्लिक के साथ आसानी से पाठ्यपुस्तकों तक पहुंच सकेंगे। इसे स्कूलनेट द्वारा प्रौद्योगिकी विकसित करने वाले इंग्लिश हेल्पर इंक के साथ साझेदारी/ पार्टनरशिप में लागू और संचालित किया जाएगा।

इसके अतिरिक्त, शिक्षकों के लिए एक विशेष वर्जन का प्रावधान भी किया जाएगा जिसका उपयोग व्यक्तिगत रूप से किया जा सकता है। इसके साथ ही, स्कूलनेट छात्र केंद्रित वर्जन भी प्रदान करेगा, जिसे वर्चुअल रूप से एक्सेस किया जा सकता है। समय के साथ-साथ, रीड टु मी समाधान के शिक्षण को प्रभावी बनाने के साथ-साथ छात्रों के पढ़ने और समझने के कौशल में सुधार करने के फायदे दिखेंगे।

(2) जीनोः स्कूलनेट के सीखने के समाधान को राजस्थान राज्य बोर्ड के पाठ्यक्रम में मैप किया जाएगा, ताकि छात्रों को उनकी पाठ्यपुस्तकों के ऊपर और उससे परे विभिन्न प्रकार की सामग्री तक पहुंचने की अनुमति मिल सके। इसके माध्यम से, वे डिजिटल सामग्री का उपयोग करने में सक्षम होंगे, जिसमें मूल्यांकन, शिक्षकों द्वारा सलाह और लाइव वर्चुअल क्लास शामिल हैं। जीनो को स्कूलनेट द्वारा लर्न, एप्लाई, रिवाइज और असेसमेंट के सिद्धांतों पर बनाया गया है, जिसका उपयोग स्कूल के बाद के समय के साथ-साथ अपनी हिसाब से सीखना सक्षम बनाने के लिए किया जाएगा। साझेदारी के पहले चरण के दौरान कक्षा 9 और 10 के लिए गणित और विज्ञान के पाठ्यक्रम को कवर करते हुए समाधान प्रदान किया जाएगा।

(3) शिक्षक प्रशिक्षणः शिक्षा के डिजिटलीकरण की सफलता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में, शिक्षकों को गहन प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। इसके तहत, वे सामग्री बनाने, वर्चुअल पढ़ाने, आकलन करने, छात्रों की सीखने की प्रगति की निगरानी करने और विभिन्न अन्य कक्षा की गतिविधियों का प्रबंधन करने के लिए नवीनतम डिजिटल उपकरणों का उपयोग करने के बारे में जानकारी से लैस होंगे। शिक्षा के लिए कार्यस्थान सहित इस प्रशिक्षण कार्यक्रम को गूगल फॉर एजुकेशन के समर्थन के साथ स्कूलनेट द्वारा वितरित किया जाएगा

घटनाक्रम पर टिप्पणी करते हुए, स्कूलनेट के एमडी और सीईओ श्री आरसीएम रेड्डी ने कहा, ‘हमारी अनूठी शिक्षा सेवाओं के माध्यम से हम देश भर में लाखों बच्चों को सशक्त और प्रभावित कर रहे हैं। राजस्थान सरकार के साथ हमारी साझेदारी डिजिटल लर्निंग को सभी के लिए सुलभ बनाने के हमारे मिशन को आगे बढ़ाने के हमारे प्रयासों को मजबूत करने की दिशा में एक कदम है।

उन्होंने आगे कहा, ‘हमें विश्वास है कि इस साझेदारी के साथ, जनजातीय समुदायों और ग्रामीण स्थानों के विद्यार्थियों के शिक्षा के माहौल में सकारात्मक और प्रणालीगत परिवर्तन आएंगे और तकनीक इसमें बड़ा हथियार बनेगी।

श्री कैलाश चंद्र कोहली (डीडी शिक्षा जनजातीय विभाग, उदयपुर) ने कहा, ‘बाधाओं के बावजूद निरंतरता सुनिश्चित करने में मदद करने में प्रौद्योगिकी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और बहुत सारी कक्षाएं ऑनलाइनप्रारूप में चली गई हैं। कई मायनों में, इसने नवाचारों के विकास को उत्प्रेरित किया है। शिक्षा के क्षेत्र में हमारे लिए शिक्षा की पुनर्कल्पना करना और इन नवाचारों के साथ तालमेल बिठाना अनिवार्य है। शिक्षा में प्रौद्योगिकी का प्रभावी उपयोग परिवर्तन में सहायता कर सकता है, और स्कूलनेट में शामिल होने से इन जनजातीय जिलों के छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा तक पहुंच के अवसर के लाभ मिलेंगे।

अपने एजेंडे के एक भाग के रूप में राजस्थान सरकार का जनजातीय क्षेत्र विकास विभाग अपने स्वामित्व और प्रबंधन वाले स्कूलों की डिजिटल क्षमताओं को बनाने और बढ़ाने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहा है। इसके साथ ही एक उद्देश्य शिक्षा की गुणवत्ता और परिणामों में सुधार के लिए प्रौद्योगिकी केंद्रित समाधानों का लाभ उठाना है। इस एजेंडे के अनुरूप स्कूलनेट जनजातीय स्कूलों में डिजिटल समाधानों की तैनाती और उन्हें अपनाने में मदद करने के लिए सक्रिय भूमिका निभाएगा।

स्कूलनेट के बारे मेंः

स्कूलनेट भारत की अग्रणी कंपनी है जो पिछले 20 वर्षों में स्कूलों को शिक्षा प्रौद्योगिकी सेवाएं प्रदान करती है और पूरे भारत में युवाओं के लिए व्यावसायिक कौशल विकास कार्यक्रम आयोजित करती है। स्कूलनेट का मिशन शिक्षा की गुणवत्ता और पहुंच में सुधार के साथ रोजगार की योग्यता देने के मामले में यूएन-एसडीजी 4 के अनुरूप है। स्कूलनेट का शिक्षा का लोकतंत्रीकरण करने के लिए प्रौद्योगिकी की शक्ति में दृढ़ता से विश्वास है और इस उद्देश्य के लिए के-यान, जीनो, इंग्लिश बोलो और विभिन्न अन्य नवीन उत्पादों और समाधानों की एक श्रृंखला विकसित की है जिसका उद्देश्य सीखने के परिणामों में सुधार करना है। स्कूलनेट विभिन्न प्रमुख प्रौद्योगिकी कंपनियों जैसे कि गूगल, अंग्रेजी हेल्पर और अन्य के साथ साझेदारी के साथ शिक्षा के लिए अत्याधुनिक डिजिटल समाधान विकसित और लागू करने के लिए भी काम करती है।

 

About Patrika Jagat