राष्ट्रीय युवा विधायक सम्मेलन बुलाने पर विचार-विमर्श के लिए जुटे अनुभवी नेता

भारत, 21 सितंबर 2022: राष्ट्रीय युवा विधायक सम्मेलन (एनवाईएलसी) के आयोजन पर निर्णय लेने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों और कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के विधानसभा/परिषद अध्यक्षों/सभापतियों की पहली कार्य समिति की पुणे में बैठक हुई। कार्यसमिति की बैठक की सह-अध्यक्षता लोकसभा के विख्यात पूर्व अध्यक्षों- श्री शिवराज पाटिल, श्रीमती मीरा कुमार और श्रीमती सुमित्रा महाजन ने की। राज्य विधानसभाओं के मौजूदा और पूर्व अध्यक्षों सहित 15 से अधिक राज्यों के विधान परिषदों के अध्यक्षों, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्तों और कुछ पूर्व नौकरशाहों ने भी एनवाईएलसी के आयोजन के लिए हुए विचार-विमर्श में भाग लिया।

जैसा कि भारत वर्तमान में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और अगले 2 वर्षों में, भारत संविधान के कार्यान्वयन के 75 वें वर्ष में प्रवेश करेगा। एनवाईएलसी एक ऐतिहासिक प्रयास में देश भर के युवा विधायकों को एक मंच पर लाकर देश के इतिहास में इन दो यादगार उपलब्धियों को जोड़ेगा।

एनवाईएलसी का आयोजन एमआईटी स्कूल ऑफ गवर्नमेंट, पुणे के सक्रिय समर्थन से विधायी निकायों, गैर-सरकारी संस्थानों और सिविल सोसाइटी द्वारा संयुक्त रूप से किया जाएगा। एनवाईएलसी राष्ट्रमंडल संसदीय संघ (सीपीए), अंतर-संसदीय संघ (आईपीयू) और यूनेस्को से समर्थन मांगेगा।

एनवाईएलसी दलगत राजनीति से परे विकास के सामान्य कारण के लिए सभी विचारधाराओं के नेताओं के बीच एक सामंजस्यपूर्ण पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण में सहायता करेगा, राष्ट्रीयता की भावना पैदा करेगा, सुशासन को बढ़ाने के लिए स्वच्छ नेतृत्व को प्रोत्साहित करेगा और वैश्विक स्तर पर एक मॉडल तैयार करेगा। यह जन-समर्थक नीतियों को तैयार करने के लिए नैतिक, उत्साही और सक्षम सार्वजनिक नेतृत्व विकसित करने के अलावा, अभिनव विकास समाधान तैयार करने के उद्देश्य से अपने साथियों से सीखने को बढ़ावा देगा।

गोवा या मुंबई, महाराष्ट्र में एनवाईएलसी के आयोजन की प्रस्तावित तिथियां 16, 17 और 18 जून 2023 हैं।

लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष श्री शिवराज पाटिल ने कहा – “विधायिका से तीन बहुत महत्वपूर्ण पहलू अपेक्षित हैं। पहला है नीति निर्माण, दूसरा है कानून बनाना और तीसरा है यह जांचना कि कानूनों का क्रियान्वयन हो रहा है या नहीं। यदि युवा विधायकों को प्रारंभिक चरण में कानून, नीति निर्माण और प्रशासन का ज्ञान दिया जाता है, तो यह देश के लोकतांत्रिक स्वरूप को बदल देगा और समाज के लिए अच्छे परिणाम देगा।

लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष श्रीमती मीरा कुमार ने कहा, ‘यह एक अद्भुत बैठक थी, शाम को हमारी बातचीत सकारात्मक और सफल रही। मैं श्री राहुल कराड को बधाई देता हूं और उनके पिता श्री विश्वनाथ कराड को सम्मान देता हूं। वे एनवाईएलसी के पीछे मार्गदर्शक भावना हैं।’

लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन ने कहा, ‘एनवाईएलसी अपने आप में एक लक्ष्य नहीं बल्कि एक बड़ा उद्देश्य प्राप्त करने का एक साधन होना चाहिए, जिसमें हम अपने युवा विधायकों को जिम्मेदारी के प्रति संवेदनशील बनाते हैं क्योंकि वे इस देश के लोगों की सेवा करने वाली अपनी यात्रा शुरू कर रहे हैं।’

एमआईटीएसओजी के चीफ इनिशिएटर श्री राहुल वी. कराड ने कहा, ‘समय आ गया है कि हमारे देश के युवा निर्वाचित प्रतिनिधियों को दलगत पक्षपात से ऊपर उठकर एक समावेशित, मजबूत और विकसित भारत के निर्माण की दिशा में काम करना चाहिए जो अनगिनत युवाओं, बुजुर्गों और महिलाओं की आकांक्षाओं को पूरा करेगा। एक मजबूत लोकतांत्रिक नेतृत्व वाला भारत ही तेजी से बंट रहीं दुनिया की चुनौतियों का सामना कर सकता है और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को विश्व शांति का मार्ग दिखा सकता है। एनवाईएलसी विचारों के उत्प्रेरक के रूप में और एक अवधारणा के रूप में कार्य करेगा और भारत का भविष्य तैयार करने के लिए युवा विधायकों में राष्ट्रीय एकता और जिम्मेदारी की भावना को प्रज्वलित और मजबूत करेगा।

विधायकों के सम्मेलन का परिणाम राष्ट्रीय नेतृत्व को नीतियों के फायदे और नुकसान को समझने के साथ-साथ जमीनी स्तर पर शासन और विकास की चुनौतियों को समझने और दुनिया भर में राष्ट्रीय नेतृत्व की प्रगतिशील कल्पना को फैलाने में मदद करने के रूप में निकलेगा।

एमआईटी स्कूल ऑफ गवर्नमेंट (एमआईटी-एसओजी) के तत्वावधान में राष्ट्रीय युवा विधायकों का सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। पहले भी एमआईटी-एसओजी भारतीय छात्र संसद, राष्ट्रीय महिला संसद, राष्ट्रीय पंचायत संसद और राष्ट्रीय युवा संसद जैसे कई अन्य कार्यक्रमों में अभिनव और प्रमुख कार्यक्रमों को बढ़ावा देने के लिए अग्रणी रहा है।

About Patrika Jagat