प्रोजेक्‍ट नन्‍हीं कली लॉकडाउन के दौरान लड़कियों को पॉजिटिव बनाये रखने की दिशा में प्रयासरत  

Edit-Rashmi Sharma

 जयपुर 29 मई 2020 –  लॉकडाउन का लगातार बढ़ाया जाना और उसके चलते स्‍कूलों का बंद रहना दुनिया भर के बच्‍चों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। उन अभावग्रस्‍त परिवार के बच्‍चों के लिए यह तो और अधिक मुश्किल है, जिनके पास डिजिटल लर्निंग की सुविधा नहीं है और वो मूलभूत शिक्षा से भी वंचित हैं। स्‍कूलों के बंद हो जाने के चलते ये बच्‍चे घरों में बंद रहने के लिए मजबूर हैं। इनके लिए ऑनलाइन क्‍लास या ऐसा कोई अन्‍य साधन भी नहीं है जिनसे वो शैक्षणिक, रचनात्‍मक व सामाजिक रूप से व्‍यस्‍त रहें।

 भारत के सबसे बड़े कार्यक्रमों में से एक, प्रोजेक्ट नन्हीं कली, जो 10 साल से कम उम्र की लड़कियों को स्कूली शिक्षा पूरी करने में सक्षम बनाता है, वर्तमान में भारत के 8 राज्यों में गरीब परिवारों की 170,000 से अधिक लड़कियों की सहायता कर रही है। इस प्रोजेक्‍ट ने यह सुनिश्चित करने के लिए अभिनव समाधान तैयार किए हैं कि लॉकडाउन की चुनौतियों के बावजूद, उनकी प्रत्येक लड़की सुरक्षित और कनेक्‍टेड रहते हुए नई-नई चीजें सीखती रहे।

नन्हीं कली टीम हर लड़की और उसके परिवार के साथ नियमित संपर्क में है ताकि उनकी भलाई सुनिश्चित हो सके। लड़कियों को संज्ञानात्मक रूप से प्रेरित करने के लिए, इस प्रोजेक्‍ट ने समर कैम्पों का आयोजन किया है, जिनसे लड़कियां एक्स्ट्रा-करिकुलर गतिविधियों जैसे ओरिगेमी, आर्ट, क्राफ्ट, रीडिंग और स्टोरीटेलिंग में व्‍यस्‍त रहती हैं। इसके अलावा, निबंध लेखन, पेंटिंग, पोस्टर-मेकिंग, ओरिगामी, कविता और कहानी लेखन में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा रहा है, जिनमें प्रोजेक्‍ट के विभिन्‍न लोकेशंस की लड़कियां अपने घरों से उत्साहपूर्वक भाग ले रही हैं।

हाल ही में, प्रोजेक्ट नन्हीं कली ने ‘मिशन रेनबो’ लागू किया, जो एक ऐसा कैंपेन है जिसमें विभिन्‍न स्‍थानों की लड़कियां वर्चुअल रूप से एक-दूसरे के साथ जुड़ीं और उन्‍होंने रंगबिरंगे इंद्रधनुष की पेंटिंग बनाई और अपनी कलाकृति की तस्‍वीरें साझा कर आशा व सकारात्‍मकता का संदेश दिया। इस गतिविधि ने न केवल लड़कियों को उनकी कलात्‍मक रूचियों को प्रकट करने का माध्‍यम प्रदान किया बल्कि महामारी के चलते पैदा तनाव और अनिश्चितताओं के माहौल में उनके भीतर सकारात्मकता की भावना पैदा की। इस अभियान को नन्ही काली के सोशल मीडिया पेजों पर प्रचारित किया गया और कई व्यक्तियों ने अपनी इंद्रधनुषी पेंटिंग पोस्ट करके अपनी एकजुटता को प्रदर्शित किया। तूफानी रात के बाद निकले इंद्रधनुष की तरह, नन्ही कलियों ने इन विषम परिस्थितियों में हर किसी के चेहरे पर मुस्‍कान ला दिया।

रचनात्मक गतिविधियों के अलावा, नन्हीं कली टीम भी लड़कियों को घर से पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित करती रही है। ट्यूटर लड़कियों को हल करने के लिए गणितीय समस्याएं, पहेलियाँ और सामान्य ज्ञान परीक्षण साझा करते हैं, जिसके बाद वे टेलीफोन कॉल के माध्यम से उनकी प्रगति की निगरानी करते हैं। समय की अवधि में अपने नन्हीं कली ट्यूटर्स के साथ एक करीबी संबंध स्थापित करने के बाद, लड़कियां खुद को ट्यूटर्स के सामने व्यक्त करने के लिए सहज महसूस करती हैं, संदेह को स्पष्ट करती हैं और मार्गदर्शन प्राप्त करती हैं हालांकि ये दैनिक वार्तालाप हैं। उन लड़कियों के लिए, जिनके पास इंटरनेट / स्मार्टफ़ोन तक पहुंच है, टीम अक्सर सरकार द्वारा शुरू की गई डिजिटल लर्निंग प्लेटफार्मों पर वर्कशीट और लिंक साझा करती है।कई परियोजना स्थानों में, नन्हीं कली टीमों को स्वेच्छा से लड़कियों, उनके परिवारों और समुदाय के सदस्यों को सिलाई और वितरण किया गया है। फोन कॉल और आभासी बैठकों के माध्यम से, वे स्वच्छता प्रथाओं और कोविड-19 रोकथाम उपायों पर समुदायों में जागरूकता पैदा कर रहे हैं, और परिवारों को अपने घरों के लिए आवश्यक वस्तुओं तक पहुंचने में मदद कर रहे हैं। इसके अलावा, प्रोजेक्ट नन्हीं कली अपने ट्यूटर्स और कार्यक्रम कार्यान्वयन टीम के लिए व्यापक ऑनलाइन प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण सत्र आयोजित कर रही है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे स्कूलों के पुन: खुले होते ही ऑन-ग्राउंड संचालन शुरू करने के लिए सुसज्जित हैं। शीतल मेहता, सीनियर वाइस प्रेसीडेंट – सीएसआर, महिंद्रा ग्रुप, बताती हैं, “प्रोजेक्ट नन्हीं कली में हमारे लिए यह एक महत्वपूर्ण समय है, क्योंकि जारी कोविड-19 संकट से शिक्षा की पहुंच में लिंग असमानता को और अधिक बढ़ जाने का खतरा है। इन अशांत समयों में, हमने लड़कियों के साथ जुड़े रहने और यह सुनिश्चित करने कि उनकी सीखने की प्रक्रिया जारी रहे, हमने नए नए तरीके अपनाए हैं कि घर पर उनके लिए उपलब्ध न्यूनतम संसाधन के साथ भी वो सीखने की इस प्रक्रिया से जुड़ी रहें। हम भारत में कमजोर लड़कियों की शिक्षा का समर्थन करने के लिए अपने प्रयासों को दोगुना करने के लिए दृढ़संकल्पित हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि वे महामारी के कारण पीछे न हों। हमारा योजनाबद्ध तरीका लड़कियों के डिजिटल सशक्तिकरण में निवेश करना है, जो हमारा नया ‘नॉर्मल’ होगा।”

प्रोजेक्ट नन्हीं कली के विषय में

प्रोजेक्ट नन्हीं कली की शुरूआत वर्ष 1996 में महिंद्रा समूह के चेयरमैन, श्री आनंद महिंद्रा ने की थी। महिंद्रा समूह आज भारत के शीर्ष औद्योगिक घरानों में से एक है। इस प्रोग्राम को शुरू करने के पीछे उनकी यह धारणा थी कि शिक्षित महिलाएं न केवल अर्थव्यवस्था में योगदान देती हैं, बल्कि बल्कि इससे दहेज और बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीतियों को भी कम करने में मदद मिलेगी। अब तक, प्रोजेक्ट नन्हीं कली ने भारत के 10 राज्यों में ग्रामीण, जनजातीय एवं शहरी क्षेत्रों की लड़कियों को शैक्षणिक एवं भौतिक सहायता प्रदान कर 3,75,000 से अधिक लड़कियों को सशक्त बनाया है। यह बालिका शिक्षा के प्रति समाज की सोच में भी बदलाव लाने का काम करता है। अधिक जानकारी हेतु, आगे दी गई वेबसाइट पर जाएं: www.nanhikali.org

 महिन्द्रा के विषय में

महिन्द्रा समूह 20.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला कंपनियों का संघ है, जो नये-नये मोबिलिटी समाधानों के जरिए और ग्रामीण समृद्धि, शहरी रहन-सहन को बढ़ाते हुए, नये व्यवसायों को प्रोत्साहन देकर और समुदायों की सहायता के जरिए लोगों को राइज अर्थात़ उत्थान करने में सक्षम बनाता है। इसका ट्रैक्टर, उपयोगिता वाहन, सूचना प्रौद्योगिकी और वैकेशन ओनरशिप में अग्रणी स्थान है और यह वॉल्युम की दृष्टि से दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनी है। कृषि-व्यवसाय, एयरोस्पेस, कल-पुर्जे, परामर्श सेवाओं, प्रतिरक्षा, ऊर्जा, औद्योगिक सेवाओं, लॉजिस्टिक्स, जमीन-जायदाद, खुदरा, इस्पात और दोपहिये उद्योगों में महिन्द्रा की महत्वपूर्ण मौजूदगी है। इसका मुख्यालय भारत में है। महिन्द्रा में 100 से अधिक देशों में 2,40,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं।

About Patrika Jagat