the-pandemic-push-indians-three-times-keener-to-invest-in-a-home-and-health-security-tech-than-smartphones
the-pandemic-push-indians-three-times-keener-to-invest-in-a-home-and-health-security-tech-than-smartphones

गोदरेज अप्लायंसेज ने ग्रीन मैन्यूफैक्‍चरिंग में नये मानक कायम किये

Editor-Ravi Mudgal

जयपुर 07 अप्रैल 2021 : गोदरेज अप्लायंसेज, जो गोदरेज ग्रुप की प्रतिष्ठित कंपनी गोदरेज एंड बॉयस का बिजनेस है और जो भारत का अग्रणी घरेलू उपकरण निर्माता ब्रांड है, पर्यावरण के प्रति अपने संकल्‍प के अनुरूप भारत का पहला ऐसा ब्रांड बन गया है जिसे भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा प्रतिष्ठित ”ग्रीनको प्‍लेटिनम प्‍लस” प्रमाणन प्राप्‍त हुआ है। सीआईआई के ग्रीनको प्‍लेटिनम प्‍लस को किसी भी कंपनी के ग्रीन परफॉर्मेंस को लाइफ साइकल एसेसमेंट एवं प्रोडक्‍ट स्‍टुअर्टशिप के जरिए मापने के लिए डिजाइन किया गया है। यह किसी भी कंपनी को ऊर्जा, पानी एवं कच्‍चे माल जैसे संसाधनों के कुशलतापूर्वक उपयोग और पर्यावरण पर उसके उत्‍पादों के पड़ने वाले प्रभाव को कम करने हेतु उसके द्वारा किये जाने वाले प्रयासों के लिए दिया जाने वाला सर्वोच्‍च सम्‍मान है। गोदरेज के शिरवाल (पुणे, महाराष्‍ट्र के निकट) और मोहाली (पंजाब) स्थित दोनों ही विनिर्माण इकाइयों को यह प्रमाणन प्रदान किया गया।

दोनों ही निर्माण इकाइयों ने सस्‍टेनेबिलिटी से जुड़े ब्रांड के प्रयासों को अगले स्‍तर तक पहुंचाया है और उत्‍कृष्‍ट टिकाऊपन की दृष्टि से एक मिसाल कायम किया है। अपनी प्रक्रियाओं के लिए सबसे पहले प्‍लेटिनम रेटिंग हासिल करने के बाद अब सबसे पहले ग्रीनको प्‍लेटिनम प्‍लस रेटिंग हासिल करने वाले, ये संयंत्र सही मायने व्‍यापक रूप से ‘ग्रीन’ हैं।

इन दोनों ही इकाइयों को इनकी जिन विशेषताओं के चलते प्‍लेटिनम प्‍लस प्रमाणन प्रदान किया गया, उनमें से कुछ निम्‍न‍लिखित हैं:

  • पिछले 4 वर्षों में विनिर्माण इकाइयों की ऊर्जा खपत में 13% कमी,
  • विनिर्माण इकाइयों में 50%नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग
  • संसाधनों का सर्वोत्‍तम उपयोग सुनिश्चित करने हेतु ऊर्जा एवं जल खपत की ऑनलाइन निगरानी
  • दोनों ही निर्माण इकाइयां वॉटर पॉजिटिव हैं (जमीन के भीतर के जल का उपयोग करने के बजाये धरातलीय जल की 100% से अधिक रिचार्जिंग), जो अपशिष्‍ट जल के पुनरुपयोग एवं रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्‍टम्‍स के जरिए अपनी जल आवश्‍यकताएं पूरी करती हैं
  • सभी हानिकारक कचरे के लिए रिडक्‍शन एवं रिसाइक्लिंग के जरिए “0वेस्ट टू लैंडफिल” हासिल किया जाता है
  • सर्वोत्‍तम पद्धतियों को ध्‍यान में रखते हुए, विभिन्‍न उद्योगों में प्रोसेस बेंचमार्किंग की जाती है
  • सप्‍लायर्स को प्‍लांट का ही एक हिस्‍सा माना जाता है और ‘सप्‍लायर क्‍लस्‍टर’ के जरिए उनका मार्गदर्शन किया जाता है, ताकि पूरी सप्‍लाई चेन को ग्रीन बनाया जा सके। सभी सप्‍लायर्स की मेंटरिंग की गयी कि वो किस तरह से अपना एनवायरमेंटफ्रेंडलीनेस कोशिएंट बेहतर बना सकते हैं। 52 सप्‍लायर्स पहले से ही ग्रीनको प्रमाणित हैं।

इस मौके पर, गोदरेज अप्‍लायंसेज के बिजनेस हेड और ईवीपी, श्री कमल नंदी ने कहा, ”हमें सीआईआई जैसे प्रतिष्ठित निकाय से यह प्रमाणन हासिल करने की खुशी है। यह प्रमाणन गोदरेज अप्‍लायंसेज द्वारा हमारे सभी कार्यों में इको-फ्रेंड्ली बनने हेतु किये जाने वाले प्रयासों का प्रमाण है। हमने हमारे कॉर्पोरेट सफर की शुरुआत से ही पर्यावरण का प्रमुखता से ध्‍यान रखा है और अब यह हमारे कॉर्पोरेट डीएनए का हिस्‍सा है। हमारा मानना है कि एक जिम्‍मेदार निर्माता के रूप में यह हमारा कर्तव्‍य है कि हम इंडस्‍ट्री में टिकाऊ मैन्‍यूफैक्‍चरिंग का मार्ग प्रशस्‍त करें। हमारे दोनों ही निर्माण संयंत्र इस धारणा के जीवंत उदाहरण हैं।”