memorandum-of-understanding-between-mpuat-and-government-engineering-college-bikaner
memorandum-of-understanding-between-mpuat-and-government-engineering-college-bikaner

एमपीयूएटी और सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज, बीकानेर के बीच समझौता ज्ञापन

Editor-Manish Mathur
जयपुर 02 अप्रैल 2021  – डॉ. नरेंद्र सिंह राठौड़, माननीय कुलपति, महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उदयपुर और डॉ. जय प्रकाश भामू, प्राचार्य, गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज, बीकानेर द्वारा एमओयू का आदान-प्रदान किया गया।
इस अवसर पर महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उदयपुर के कुलपति, डॉ. नरेंद्र सिंह राठौड़ ने कहा कि उच्च शिक्षा में इंजीनियरिंग, कंप्यूटर अनुप्रयोग और प्रबंधन में नई प्रगति तेजी से बढ़ रही है। दोनों संकाय और छात्रों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शैक्षणिक और अनुसंधान के क्षेत्र में नई सुविधाओं और अग्रिमों के जोखिम को प्राप्त करने का प्रतिस्पर्धात्मक लाभ होना चाहिए।
नवीकरणीय ऊर्जा और यांत्रिक अभियांत्रिकी के साथ-साथ अनुसंधान और क्षमता निर्माण के नए क्षेत्रों में संयुक्त छात्र कार्यक्रमों के लिए संयुक्त अनुसंधान परियोजनाओं को लेने के लिए समर्थन और सहयोग का विस्तार करेगा।
डॉ. जय प्रकाश भामू, प्रिंसिपल, गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज, बीकानेर ने कहा कि गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज, बीकानेर में विशेष रूप से अक्षय ऊर्जा और यांत्रिक अभियांत्रिकी के क्षेत्र में अनुसंधान और शैक्षणिक कार्य को बढ़ाने के लिए अधिक अवसर होंगे। इसके अलावा, जीईसी, बीकानेर के संकाय के पीएचडी कार्यक्रम को संयुक्त कार्यक्रमों के माध्यम से महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उदयपुर के सहयोग से किया जाएगा। इंजीनियरिंग के नए उन्नत क्षेत्रों में संकाय के आदान-प्रदान, कंप्यूटर अनुप्रयोग और प्रबंधन दोनों संस्थानों को लाभ होगा।
यह समझौता ज्ञापन एमपीयूएटी, उदयपुर और राजकीय इंजीनियरिंग काॅलेज, बीकानेर के बीच शैक्षणिक और अनुसंधान सहयोग बढ़ाने के लिए अनिवार्य है। यह समझौता ज्ञापन निम्न में मदद करेगाः
एमपीयूएटी, उदयपुर द्वारा मेंटरशिप का विस्तार
पाठ्यक्रम विकास में सहयोग तथा संकाय और छात्र में विनिमय के लिए सहायता।
प्रकाशन और शैक्षिक सामग्री का आदान-प्रदान। अल्पकालिक पाठ्यक्रम, प्रशिक्षण और परामर्श जैसी संयुक्त गतिविधियाँ व सेवाएं प्रदान करना।
जी.ई.सी., बीकानेर के संकाय सदस्यों की अकादमिक उन्नति के लिए इंजीनियरिंग, प्रबंधन, कंप्यूटर अनुप्रयोग और अन्य प्रासंगिक क्षेत्रों से संबंधित क्षेत्रों में सहयोग।
डॉ. अजय कुमार शर्मा, डीन, कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग, उदयपुर और डॉ. जे. पी. भामू, प्रिंसिपल, गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज, बीकानेर ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। सीटीएई के डीन डॉ. अजय कुमार शर्मा ने समन्वय, संयुक्त समन्वय समिति, समझौते के क्षेत्रों और मेंटरशिप के तरीकों की जानकारी दी।
डाॅ. एस. के. शर्मा, अनुसंधान निदेशक ने सभी का स्वागत किया तथा डाॅ. विरेन्द्र नेपालिया, विशेषाधिकारी, कुलपति, महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उदयपुर ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के वरिष्ठ अधिकारी परिषद के सभी सदस्य उपस्थित थे।