एस्ट्राजेनेका ने राजीव गांधी कैंसर इंस्टिट्यूट के साथ मिलकर क्रोनिक लिम्‍फोसायटिक ल्यूकेमिया (सीएलएल) से पीडि़त मरीजों के निदान एवं उपचार में सहायता हेतु प्रोजेक्‍ट चैरियट लॉन्‍च किया

जयपुर, 12 नवम्बर, 2021ः  एस्ट्राजेनेका इंडिया (एस्ट्राजेनेका फार्मा इंडिया लिमिटेड), जो एक अग्रणी विज्ञान-आधारित बायोफार्मास्यूटिकल कंपनी है, ने भारत में क्रोनिक लिम्फोसायटिक ल्यूकेमिया (सीएलएल) से पीडि़त मरीजों के निदान एवं उपचार में सहायता हेतु ‘प्रोजेक्‍ट चैरियट’ पहल शुरू की। उत्‍तर भारत और दिल्‍ली एनसीआर क्षेत्र में इस प्रोग्राम को राजीव गांधी कैंसर इंस्टिट्यूट (आरजीसीआई) के साथ रणनीतिक‍ सहयोग के जरिए शुरू किया गया है। इस पहल के जरिए, एस्‍ट्राजेनेका का उद्देश्‍य भारत के महत्‍वपूर्ण स्‍थानों में सीएलएल रेफरेंस लेबोरेटरीज (सीआरएल) की मदद करना है और पेरिफेरल हॉस्पिटल्‍स से उनके निकटतम सीआरएल को जोड़ने में सहायता करना है ताकि बीमारी से लड़ रहे मरीजों के लिए आवश्‍यक फिश पैनल एवं आईजीएचवी (IgHV) टेस्‍ट उपलब्‍ध कराया जा सके और देश भर में सीएलएल मरीजों के लिए टेस्‍ट की सुविधा बढ़ाई जा सके।

क्रोनिक लिम्फोसायटिक ल्यूकेमिया एक प्रकार का कैंसर है जो उन कोशिकाओं से शुरू होता है जो लिम्फोसाइट्स नामक सफेद रक्त कोशिकाओं में बनती हैं। अस्थि मज्जा वह जगह है जहां इस प्रकार का रक्त कैंसर विकराल रूप धारण कर लेता है। अस्थि मज्जा से, ये कैंसरयुक्त डब्‍ल्‍यूबीसी रक्त में प्रवाहित होते हैं। चूंकि ल्यूकेमिया कोशिकाएं वर्षों से स्टॉक का निर्माण करती हैं, इसलिए कैंसर वाले अधिकांश व्यक्तियों को कुछ साल बीतने तक किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं हो सकता है। हालांकि, समय के साथ, ये ल्यूकेमिया कोशिकाएं लिम्फ नोड्स, यकृत और प्लीहा में फैल सकती हैं। इस कैंसर की पुरानी प्रकृति को देखते हुए, यह इलाज के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण कैंसर में से एक है। भारत में, प्रति वर्ष सीएलएल की औसत घटना 6774 मामले हैं, 5490 मामलों की औसत मृत्यु और 22083 मामलों की व्यापकता और वैश्विक स्तर पर सीएलएल रोगियों की तुलना में शुरुआत की बहुत कम उम्र, अधिक आक्रामक पाठ्यक्रम और इलाज के लिए कम समय दिखाते हैं।

हालांकि सीएलएल के अधिकांश मरीज कीमो इम्यूनोथेरेपी (सीआईटी) के वर्तमान उपचार प्रोटोकॉल के लिए अच्छी प्रतिक्रिया देते हैं, लेकिन रोगियों का एक उपसमूह इस उपचार के लिए प्रतिक्रिया नहीं देता है या दो साल के भीतर फिर से शुरू हो जाता है, और इस उपसमूह को उच्च जोखिम वाले सीएलएल रोगियों के रूप में जाना जाता है। इन उच्च जोखिमसीएलएल रोगियों की पहचान उनके लिए उचित उपचार निर्णय लेने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाती है। भले ही चिकित्सक नियमित रूप से अपनी नैदानिक निर्णय लेने की प्रक्रिया में फ्लो साइटोमेट्रिक टेस्ट और फिश सिंगल-मार्कर टेस्ट जैसे परीक्षण करते हैं, आईजीएचवी हाइपरम्यूटेशन के लिए परीक्षण-जो एक महत्वपूर्ण रोगनिरोधी बायोमार्कर के रूप में उभरा है, उच्च जोखिमसीएलएल की पहचान के लिए नियमित रूप से नहीं किया जा रहा है। आईजीएचवी हाइपरम्यूटेशन टेस्ट और फिश पैनल टेस्ट करने वाले परीक्षण केंद्रों की कमी के कारण, उच्च जोखिम सीएलएल रोगियों की पहचान करने और उनके लिए उपयुक्त चिकित्सा प्राप्त करने से चूक जाते हैं।

इस अवसर पर टिप्‍पणी करते हुए, एस्ट्राजेनेका के वी.पी. मेडिकल अफेयर्स एवं रेग्‍यूलेटरी, डॉ. अनिल कुकरेजा ने कहा, ”प्रोजेक्ट चैरियट का उद्देश्य परीक्षण केंद्रों की कमी को दूर करना है और भारत में रणनीतिक स्थानों पर सीएलएल संदर्भ प्रयोगशालाओं (सीआरएल) की पहचान और समर्थन करने की दिशा में काम करना है और एक ऐसा ढांचा तैयार करना है जो रोगियों को बेहतर परीक्षण पहुंच प्रदान कर सके। हमें राजीव गांधी कैंसर इंस्टिट्यूट के साथ सहयोग की बेहद खुशी है, जो उत्तर भारत में इस पहल को अपनाने और लागू करने वाला पहला ऐसा सीआरएल है। यह सहयोग उच्च जोखिम वाले सीएलएल रोगियों की पहचान करने में मदद करेगा, जिन्हें नवीनतम साक्ष्य के अनुसार विभिन्न उपचार दृष्टिकोणों की आवश्यकता है, जिससे उनके नैदानिक परिणामों में सुधार होगा। यह पहल मरीजों को हमारे हर काम के केंद्र में रखने के एस्ट्राजेनेका के मूल मूल्य के अनुरूप है।”

डॉ. कर्नल (सेवानि.) अनुराग मेहता – निदेशक – डिपार्टमेंट ऑफ लेबोरटरी एंड ट्रांसफ्यूजन सर्विसेज और डाइरेक्‍टर रिसर्च, आरजीसीआई ने भी कहा, ”आरजीसीआई ने अपने मरीजों के लिए उत्‍कृष्‍ट तकनीक का लाभ उपलब्‍ध कराने हेतु बढ़-चढ़कर प्रयास करने में विश्‍वास रखा है। उच्च जोखिम सीएलएल मरीजों की पहचान बेहद जरूरी है ताकि उचित उपचार प्रोटोकॉल्‍स का पालन तुरंत शुरू किया जा सके। आईजीएचवी हाइपरम्यूटेशन टेस्ट और फिश पैनल टेस्ट कर सकने वाले टेस्टिंग सेंटर्स की सीमित संख्‍या के चलते इकोसिस्‍टम में व्याप्त कमी की वजह से, उच्च जोखिम सीएलएल मरीजों का निदान नहीं हो पा रहा है और उनकी आवश्‍यक चिकित्सा नहीं हो पा रही है। प्रोजेक्‍ट चैरियट के लिए एस्‍ट्राजेनेका के साथ हमारा सहयोग इस दिशा में बढ़ाया गया एक कदम है ताकि उत्‍तर भारत के उच्च जोखिम सीएलएल मरीजों की पहचान के लिए नवीनतम डायग्‍नॉस्टिक्‍स टेस्‍ट प्रदान किया जा सके और उन्‍हें उनके उपचार के बेहतर परिणाम मिल सकें।”

प्रोजेक्ट चैरियट का उद्देश्य वर्तमान सीएलएल उपचार प्रोटोकॉल को फिर से परिभाषित करना नहीं है, बल्कि इन रोगियों को बेहतर और अधिक व्यापक परीक्षण पहुंच प्रदान करके उच्च जोखिम सीएलएल रोगियों की पहचान करने में मदद करना है और इसके परिणामस्वरूप उनके उपचार के परिणाम में सुधार करना है।

About Patrika Jagat